जनसंख्या नियंत्रण नीति को लेकर भाजपा के रवि और कांग्रेस के गुंडू राव के बीच नोकझोंक

कर्नाटक में जनसंख्या नियंत्रण उपायों की आवश्यकता पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सी. टी. रवि और तमिलनाडु के कांग्रेस प्रभारी दिनेश गुंडू राव के बीच वाकयुद्ध देखने को मिला है।
जनसंख्या नियंत्रण नीति को लेकर भाजपा के रवि और कांग्रेस के गुंडू राव के बीच नोकझोंक

कर्नाटक में जनसंख्या नियंत्रण उपायों की आवश्यकता पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सी. टी. रवि और तमिलनाडु के कांग्रेस प्रभारी दिनेश गुंडू राव के बीच वाकयुद्ध देखने को मिला है। राव ने कहा कि भाजपा की उत्तर प्रदेश जनसंख्या नियंत्रण नीति बलपूर्वक है, जिस पर रवि ने पूछा, तो क्या आपातकाल के दौरान कांग्रेस द्वारा अपनाए गए जनसंख्या नियंत्रण मॉडल का पालन करना चाहिए?

मंगलवार को कर्नाटक के भाजपा विधायक और तमिलनाडु, महाराष्ट्र और गोवा के प्रभारी रवि ने मांग की थी कि कर्नाटक अपनी बढ़ती आबादी को नियंत्रित करने के लिए असम और उत्तर प्रदेश की तर्ज पर एक नई जनसंख्या नीति लाए।

रवि ने ट्वीट करते हुए कहा था, यह सही समय है कि कर्नाटक अपनी बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए असम और उत्तर प्रदेश की तर्ज पर एक नई जनसंख्या नीति लाए। सीमित प्राकृतिक संसाधनों के साथ, जनसंख्या विस्फोट होने पर प्रत्येक नागरिक की जरूरतों को पूरा करना मुश्किल होगा।

कर्नाटक के लिए रवि की जनसंख्या नीति की मांग का जिक्र करते हुए, कांग्रेस विधायक, राव ने ट्वीट किया, सी. टी. रवि, उत्तर प्रदेश जनसंख्या नियंत्रण नीति बलपूर्वक है और इसके अनपेक्षित परिणाम हैं। साथ ही कर्नाटक में प्रजनन दर 1.7 है जो 2.1 की प्रतिस्थापन दर से नीचे है। हम ऐसी अवैज्ञानिक नीतियों के बिना अच्छा कर रहे हैं, इसलिए कृपया अपने विचार पर संयम रखें।

राव पर पलटवार करते हुए रवि ने पूछा कि क्या दो से अधिक बच्चे पैदा करने वाले पुरुषों की जबरन नसबंदी कर दी जानी चाहिए?

उन्होंने सवाल दागते हुए कहा, यदि उत्तर प्रदेश की जनसंख्या नियंत्रण नीति जबरदस्ती है, तो क्या आपातकाल के दौरान कांग्रेस द्वारा अपनाए गए जनसंख्या नियंत्रण मॉडल का पालन करना चाहिए? क्या दो से अधिक बच्चे पैदा करने वाले पुरुषों की जबरन नसबंदी कर दी जानी चाहिए? क्या इसके अपेक्षित परिणाम होंगे, दिनेश गुंडू राव? कृपया स्पष्ट करें।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news