बांग्लादेश में कट्टरपंथियों का निशाना बने दुर्गा पूजा पंडाल, गोलीबारी में तीन की मौत

बताया जा रहा है कि बुधवार रात सोशल मीडिया पर हिंदुओं द्वारा कुरान का अपमान करते हुए कथित रूप से एक फेसबुक पोस्ट वायरल हो गई, जिसके बाद धार्मिक कट्टरपंथियों ने कई दुर्गा पंडालों में तोड़फोड़ की।
बांग्लादेश में कट्टरपंथियों का निशाना बने दुर्गा पूजा पंडाल, गोलीबारी में तीन की मौत

बांग्लादेश में एक बार फिर से हिंदू अल्पसंख्यकों पर अत्याचार की खबर सामने आई है। ताजा मामला है चांदपुर जिले की जहां चरमपंथियों की भीड़ ने फेसबुक पर अफवाह फैलने के बाद हिंदू मंदिर पर हमला कर दिया। इस हमले के दौरान कई राउंड फायरिंग भी की गई जिससे तीन हिंदुओं की मौत हो गई। इस घटना पर बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने ट्वीट करके कहा कि 13 अक्तूबर  बांग्लादेश के इतिहास का निंदनीय दिन है। अष्टमी के दिन मूर्ति विसर्जन के मौके पर कई पूजा मंडपों में तोड़फोड़ की गई और हिंदुओं को चोट पहुंचाई गई। हिंदुओं को अब पूजा मंडपों की रखवाली करनी पड़ रही है। आज पूरी दुनिया चुप है। मां दुर्गा अपना आशीर्वाद सभी हिंदुओं पर बनाए रखें। दरिंदो को कभी माफी न करें।

फेसबुक पोस्ट वायरल होने के बाद धार्मिक कट्टरपंथियों ने की हिंसा

बताया जा रहा है कि बुधवार रात सोशल मीडिया पर हिंदुओं द्वारा कुरान का अपमान करते हुए कथित रूप से एक फेसबुक पोस्ट वायरल हो गई, जिसके बाद धार्मिक कट्टरपंथियों ने कई दुर्गा पंडालों में तोड़फोड़ की। इतना ही नहीं जब इनका विरोध किया गया तो इन्होंने फायरिंग कर दी जिससे तीन लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। वहीं कुरान के अपमान के दावों को नकारते हुए कमिला महानगर पूजा उद्जापोन कमेटी के महासचिव शिबू प्रसाद दत्ता ने बताया कि किसी ने कुरान की एक कॉपी नानुआ दिघीर पार में एक दुर्गा पूजा मंडप में सुबह-सुबह रख दी और उस वक्त गार्ड सो रहा था।

इसके अलावा जिले के एक अधिकारी ने पुष्टि करते हुए कहा कि कुछ धार्मिक चरमपंथियों ने दुर्गा पंडालों में पहले कुरान की प्रति रख दी और कुछ तस्वीरें लीं, फिर भाग गए। कुछ घंटों के भीतर उन सभी ने फेसबुक का उपयोग करते हुए भड़काऊ तस्वीरों को वायरल कर दिया।

मंत्रालय ने की शांति बनाए रखने की अपील
बांग्लादेश छात्र लीग ने एक प्रेस रिलीज जारी कर अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं से पूजा मंडप में रहने के लिए कहा है। इस संबंध में बांग्लादेश के धार्मिक मंत्रालय ने भी बयान जारी किया है। मंत्रालय ने सभी से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की। परिषद ने गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा, 'हम एक ट्वीट में नहीं बता सकते कि पिछले 24 घंटों में क्या हुआ। बांग्लादेश के हिंदुओं ने कुछ लोगों का असली चेहरा देखा। हमें नहीं पता कि भविष्य में क्या होगा। लेकिन बांग्लादेश के हिंदू कभी 2021 की दुर्गा पूजा नहीं भूलेंगे।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.