संयुक्त राष्ट्र में भारत ने रूस के पक्ष में किया मतदान, 105 के रिकॉर्ड वोट से प्रस्ताव पास

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में समिति ने कुल आठ मसौदों को हरी झंडी दिखाई। रूस की ओर से लाए गए मसौदे में स्वदेशी लोगों के अधिकारों, डिजिटल युग में गोपनीयता, नाजीवाद के महिमामंडन की निंदा शामिल है।
संयुक्त राष्ट्र में भारत ने रूस के पक्ष में किया मतदान, 105 के रिकॉर्ड वोट से प्रस्ताव पास

संयुक्त राष्ट्र महासभा में रूस के प्रस्ताव पर मतदान हुआ। जिसमें भारत ने रूस के समर्थन में वोटिंग की। महासभा में रूस का मसौदा "नाजीवाद के महिमामंडन का मुकाबला" रिकॉर्ड वोटिंग के बाद बहुमत से पास हुआ और समिति ने मसौदे को औपचारिक मंजूरी दे दी है। मसौदे के समर्थन में 105 ने पक्ष में, 52 ने विपक्ष में वोट दिया। जबकि, 15 सदस्यों ने मतदान से परहेज किया।

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में समिति ने कुल आठ मसौदों को हरी झंडी दिखाई। रूस की ओर से लाए गए मसौदे में स्वदेशी लोगों के अधिकारों, डिजिटल युग में गोपनीयता, नाजीवाद के महिमामंडन की निंदा शामिल है। इस मौके पर भारतीय प्रतिनिधि ने कहा कि यह इस समझ के साथ संकल्प पर आम सहमति से जुड़ता है क्योंकि स्वदेशी लोगों की अवधारणा देश के संदर्भ में लागू नहीं है।

रूस द्वारा लाए गए मसौदे के समर्थन में 105 ने पक्ष में मतदान किया, 52 ने विपक्ष में जबकि 15 सदस्यों ने वोटिंग से परहेज किया। समिति ने शुक्रवार को आठ मसौदे पारित किए। जिसमें मानवाधिकार के कई मुद्दे जिसमें साक्षरता से जुड़ा अधिकार और यौन शोषण से बच्चों की सुरक्षा से लेकर अपराध की रोकथाम और आपराधिक न्याय के मामलों आदि शामिल हैं।

मसौदा प्रस्ताव में नाजी आंदोलन, नव-नाजीवाद और वेफेन एसएस संगठन के पूर्व सदस्यों, स्मारकों को खड़ा करने और नाजी अतीत को महिमामंडित करने के लिए सार्वजनिक प्रदर्शनों को शामिल करने के बारे में समिति ने गहरी चिंता व्यक्त की थी। संयुक्त राष्ट्र ने अपने बयान में कहा कि रूसी संघ के प्रतिनिधि ने जातिवाद और जेनोफोबिक बयानबाजी में वृद्धि पर चिंता व्यक्त की और इस्लामोफोबिया, एफ्रोफोबिया और विरोधीवाद के खिलाफ प्रवासियों और शरणार्थियों को निर्वासित करने का आह्वान किया।

यूक्रेन पर युद्ध को सही ठहराने का प्रयास कर रहा रूस
यूक्रेन के खिलाफ अपने क्रूर युद्ध को सही ठहराने के लिए नव-नाजीवाद का मुकाबला करने के बहाने मास्को के प्रयास पर चिंता व्यक्त की। यूक्रेन के प्रतिनिधि ने जोर देकर कहा कि मसौदे में नाजीवाद और नव-नाजीवाद के खिलाफ वास्तविक लड़ाई के अलावा कुछ भी सामान्य नहीं है। वहीं, यूनाइटेड किंगडम के प्रतिनिधि ने भी कहा कि प्रस्ताव झूठ और विकृत इतिहास को आगे बढ़ाकर यूक्रेन के खिलाफ अपनी आक्रामकता को सही ठहराने के मास्को के प्रयास का हिस्सा है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news