कोरोनिल विवाद पर भड़के बाबा रामदेव, दी सफाई, बोले- आतंकियों की तरह हमारे खिलाफ FIR की गईं
ताज़ातरीन

कोरोनिल विवाद पर भड़के बाबा रामदेव, दी सफाई, बोले- आतंकियों की तरह हमारे खिलाफ FIR की गईं

हमने कोरोना की दवा पर अच्छी पहल की है, लेकिन लोग हमें गाली दे रहे हैं। आप हमें खूब गाली दो, लेकिन कम से कम उन लोगों के साथ हमदर्दी रखो, जो कोरोना वायरस से पीड़ित हैं और जिन लाखों-करोड़ों बीमार लोगों का पतंजलि ने इलाज किया है।

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना इलाज को लेकर बनाई गई कोरोनिल दवा को लेकर हुए विवाद के बाद बाबा रामदेव ने बुधवार को सामने आकर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस मामले में सफाई दी। उन्होंने कहा कि उनके पास आयुष मंत्रालय का जवाब आया है। उन्होंने उनकी पहल की प्रशंसा की है। उन्होंने सारे प्रोटोकॉल पूरे करते हुए ट्रायल किया है।

रामदेव ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि 'लोग कह रहे हैं कि पतंजलि ने पलटी मारी, कोई अनुसंधान नहीं किया और कुछ लोगों ने तो मेरी जाति, धर्म, संन्यास को लेकर और अलग-अलग प्रकार से गंदा वातावरण बनाने की कोशिश की गई. ऐसे लगता है कि हिंदुस्तान के अंदर आयुर्वेद का काम करना गुनाह हो. देशभर में एफआईआर दर्ज करा दी गईं, जैसे किसी देशद्रोही और आतंकवादी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होती हैं.'

रामदेव ने कहा कि पतंजलि ने प्रोटोकॉल नहीं बनाए। जो सरकारी प्रोटोकॉल बनाए गए हैं, उसी के आधार पर उन्होंने ट्रायल किया है। प्रोटोकॉल में सारे नियमों का पालन किया गया। रजिस्ट्रेशन के लिए, रजिस्ट्रेशन के नियमों का पालन किया गया। दवा को लेकर बेकार में विवाद हो रहा है। लोगों को रोगमुक्त बनाना, मोटापे से मुक्त कराना, हेपेटाइटिस से मुक्त कराना गुनाह है तो कर रहे हैं।

रामदेव ने कहा हमने कोरोना की दवा पर अच्छी पहल की है, लेकिन लोग हमें गाली दे रहे हैं। आप हमें खूब गाली दो, लेकिन कम से कम उन लोगों के साथ हमदर्दी रखो, जो कोरोना वायरस से पीड़ित हैं और जिन लाखों-करोड़ों बीमार लोगों का पतंजलि ने इलाज किया है।

रामदेव ने कहा कि अभी पतंजलि ने कोरोना पर ही उन्होंने रिसर्च किया है, अभी कोई और बड़ी बीमारियों पर रिसर्च कर रहे हैं। उनमें हाइपरटेंशन, स्वाइन फ्लू, चिकिनगुनिया, दिल की बीमारियों समेत 10 से ज्यादा बीमारियों पर रिसर्च कर रहे हैं। काम लगभग पूरा कर चुके हैं। उनके यहां 500 साइंटिस्ट रात-दिन काम कर रहे हैं। हम लोग तीन लेवल पार कर चुके हैं। ड्रग माफिया व MNC माफिया सब बेनकाब होंगे और आयुर्वेद प्रतिष्ठापित होगा।

रामदेव ने कहा कि क्लीनिकल ट्रायल का डाटा सामने रखा तो हंगामा हो गया। भूकंप आ गया। पूरी दुनिया हिल गई। टाई पहनने वाले रिसर्च करते थे। उन्हें लग रहा है कि लंगोटी पहनने वाले कब से रिसर्च करने लगे। उन लोगों के बीच हड़कंप मच गया है। सामंतवादी सोच है कि वेद पढ़ा हुआ संन्यासी कैसे रिसर्च कर सकता है। क्लीनिकल ट्रायल के लिए 10,000 करोड़ का इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा किया है।

रामदेव ने कहा कि दवाओं के बनाने का लाइसेंस होता है। केंद्र के आयुष मंत्रालय से लाइसेंस मिलता है। इस मामले में प्लानिंग के साथ भ्रम और षड्यंत्र किया गया है। पतंजलि ने कोरोनिल की दवाओं का क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल का रिजल्ट आउट किया था। हमने कभी भी दवा (कोरोनिल) से कोरोना ठीक करने या कंट्रोल करने का दावा नहीं किया था। हमने कहा था कि उन्होंने एक ऐसी दवाई बनाई है जिससे कोरोना के मरीज ठीक हुए हैं। इसमें कोई भ्रम नहीं है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news