हरियाणा प्रशासन के साथ किसान मोर्चा की बैठक, सिंघु बॉर्डर पर एक तरफ से बैरिकेड हटा इमरजेंसी सेवाओं को मिलेगा रास्ता

हरियाणा प्रशासन के साथ किसान मोर्चा की बैठक, सिंघु बॉर्डर पर एक तरफ से बैरिकेड हटा इमरजेंसी सेवाओं को मिलेगा रास्ता

कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन के बीच संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने गुरुवार शाम हरियाणा प्रशासन के अधिकारियों के साथ एक विस्तृत बैठक की।

कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन के बीच संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने गुरुवार शाम हरियाणा प्रशासन के अधिकारियों के साथ एक विस्तृत बैठक की। इस बैठक में यह निर्णय लिया गया कि, ऑक्सिजन, एम्बुलेंस व अन्य जरूरी सेवाओं के लिए जीटी करनाल रोड़ का एक हिस्सा खोला जाएगा।

जिसपर दिल्ली पुलिस ने बैरिकेड लगाए हुए हैं। वहीं किसान कोरोना के खिलाफ जंग में हरसंभव मदद करेंगे। किसानों के साथ हुई इस बैठक में सोनीपत के एसपी, सीएमओ समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति रहे, वहीं सिंघु बॉर्डर से सयुंक्त किसान मोर्चा के नेता शामिल हुए।

एसकेएम के अनुसार, बैठक में लिए गए फैसले के बाद जल्द ही मुख्य सड़क का एक हिस्सा इमरजेंसी सेवाओं के लिए खोल दिया जाएगा। सयुंक्त किसान मोर्चा व सभी संघर्षशील किसान इस बात के लिए प्रतिबद्ध हैं कि उनके कारण किसी आम नागरिक को कोई समस्या न हो व कोरोना के खिलाफ जल्दी ही जंग जीती जाए।

किसानों पर दिल्ली शहर में ऑक्सीजन की आपूर्ति में बाधा डालने का आरोप लग रहा है। वहीं किसानों नेताओं ने कहा कि, "वहीं यह देखा गया है कि पुलिस ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाले ट्रकों को सही मार्ग न बताकर, किसानों के धरना स्थलों की ओर गलत तरीके से रोक रही है।"

दरअसल तीन नए अधिनियमित खेत कानूनों के खिलाफ किसान पिछले साल 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news