प्रज्ञा ठाकुर को फिर मिली जान से मारने की धमकी, बोलीं- सामने आ जाए तो उसकी असली औकात दिखा दूंगी
ताज़ातरीन

प्रज्ञा ठाकुर को फिर मिली जान से मारने की धमकी, बोलीं- सामने आ जाए तो उसकी असली औकात दिखा दूंगी

प्रज्ञा ने कहा कि अभी उन्होंने कानून के दायरे में रहकर मामले की शिकायत की है। लेकिन जब इस तरह के लोग सामने आएंगे तो उनसे उसी तरह निपटा जाएगा। ऐसे विधर्मी लोगों से अच्छी तरह से निपटा जाएगा।

Yoyocial News

Yoyocial News

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को अज्ञात नंबर से कॉल करके जान से मारने धमकी दी गई है। इस मामले में प्रज्ञा ने भोपाल के कमला नगर थाने में केस दर्ज करवाया है। पुलिस की साइबर सेल ने मोबाइल नंबर के आधार पर जांच शुरू कर दी। प्रज्ञा का कहना है कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर दिए गए बयान के बाद धमकी दी गई। फोन करने वाले ने भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं को लेकर भी अभद्र भाषा में टिप्पणी की।

प्रज्ञा ने कहा कि अभी उन्होंने कानून के दायरे में रहकर मामले की शिकायत की है। लेकिन जब इस तरह के लोग सामने आएंगे तो उनसे उसी तरह निपटा जाएगा। ऐसे विधर्मी लोगों से अच्छी तरह से निपटा जाएगा।

प्रज्ञा ने कहा कि वो राष्ट्रभक्त हैं और देश पर कुर्बान होने के लिए तैयार हैं। लेकिन जिसने भी धमकी दी है, अगर वह सामने आ जाए तो उसे भी समझ में आ जाएगा कि उसकी असली औकात क्या है। यह कायर लोग हैं जो पीठ पीछे वार करते हैं, सामने नहीं आते। अगर धमकी देने वाले में दम है तो अपना सही नंबर बताए। उसको हम उठवा लेंगे और बता देंगे कि उसकी असली औकात क्या है।

प्रज्ञा ने एक बयान में कहा था कि 5 अगस्त को अयोध्या मंदिर निर्माण कार्य शुरू होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी भी इसमें शामिल होंगे। इस दिन सभी लोग अपने घरों में 5 दिये जलाएं। इसके अलावा, प्रज्ञा सिंह ने कोरोना को खत्म करने के लिए 25 जुलाई से 5 अगस्त तक हर दिन शाम 7 बजे 5 बार हनुमान चालीसा का पाठ करने की अपील भी लोगों से की थी।

इससे पहले प्रज्ञा को अक्टूबर 2019 में एक धमकीभरा पत्र भेजा गया था। एटीएस ने इस मामले में महाराष्ट्र के नांदेड़ में धानेगांव निवासी डॉ. सैयद अब्दुल रहमान को 18 जनवरी को घर से गिरफ्तार किया था। रहमान पर आरोप है कि उसने एक लिफाफे में उर्दू में लिखा धमकी भरा पत्र प्रज्ञा को भेजा। रहमान धानेगांव इलाके में क्लीनिक चलाता था। वह पहले भी अधिकारियों को संदिग्ध लिफाफे भेजने के आरोप में पकड़ा जा चुका है। हाल ही में उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी गई है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news