Bihar BJP MLA Anil Singh
Bihar BJP MLA Anil Singh
ताज़ातरीन

Lockdown: कोटा में फंसे बेटे को विशेष पास से बिहार लाए BJP MLA, किशोर ने पूछा- कहां गई नीतीश की मर्यादा

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि मजदूरों या छात्रों को एक राज्य से दूसरे राज्य ले जाना लॉकडाउन के नियमों के खिलाफ है. लेकिन जैसे ही बीजेपी विधायक द्वारा अपने बेटे को कोटा से लाने का मामला सामने आया तो उससे राज्य सरकार बैकफुट पर आ गई.

Yoyocial News

Yoyocial News

देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच यूपी के बाद कई अन्य राज्यों ने राजस्थान के कोटा से अपने राज्य के बच्चों को वापस लाने के लिए बसें भेजी हैं. इस दौरान विशेष पास से बीजेपी विधायक अनिल सिंह अपने बेटे को कोटा से सड़क मार्ग के द्वारा बिहार लेकर आ गए. इस पर उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि मेरा बेटा कोटा में परेशान था. एक पिता की जिम्मेदारी निभाते हुए मैंने जिला प्रशासन की अनुमति और सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए ही अपने बेटे को वहां से लाया हूं. मैंने लॉकडाउन का उल्लंघन नहीं किया.

हालांकि, बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि मजदूरों या छात्रों को एक राज्य से दूसरे राज्य ले जाना लॉकडाउन के नियमों के खिलाफ है. लेकिन जैसे ही बीजेपी विधायक द्वारा अपने बेटे को कोटा से लाने का मामला सामने आया तो उससे राज्य सरकार बैकफुट पर आ गई. लेकिन, इसके साथ ही पास जारी करने वाले अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी होने का भी संकेत दिया जा रहा है. सरकार की ओर से यह इशारा भी किया जा रहा है कि सीएम नीतीश इस मुद्दे पर किसी को बख्शने वाले नही हैं.

प्रशांत किशोर ने नीतीश पर बोला हमला

सरकार के विरोध के बावजूद कोटा से अपने बेटे को लेकर बिहार लौटे बीजेपी विधायक के बहाने जदयू के पूर्व उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने नीतीश पर हमला बोला है. प्रशांत ने ट्वीट में लिखा 'कोटा में फँसे बिहार के सैकड़ों बच्चों की मदद की अपील को नीतीश कुमार ने यह कहकर ख़ारिज कर दिया था कि ऐसा करना लॉकडाउन की मर्यादा के ख़िलाफ़ होगा. अब उन्हीं की सरकार ने बीजेपी के एक विधायक को कोटा से अपने बेटे को लाने के लिए विशेष अनुमति दी है. नीतीश जी अब आपकी मर्यादा क्या कहती है?'

उधर, बिहार में विपक्ष ख़ासकर राष्ट्रीय जनता दल आक्रामक रुख अपनाए हुए है. तेजस्वी यादव हर दिन सीएम नीतीश से एक नहीं कई सवाल करते हैं. सोमवार को उन्होंने एक ट्वीट में लिखा 'बिहार सरकार का पक्षपातपूर्ण दोहरा रवैया देखिए. एक तरफ़ 13 अप्रैल को केंद्र को पत्र लिखती है और दूसरी तरफ़ पास जारी करती है. विधायक का कहना है कि सरकार ने अब तक ख़ास लोगों के लिए अकेले नवादा ज़िले में ही ऐसे 700 विशेष पास जारी किए गए है?सरकार ऐसे सभी लोगों की जानकारी सार्वजनिक करे.'

बता दें बीजेपी विधायक अनिल सिंह को कोटा (राजस्थान) से नवादा (बिहार) तक आने-जाने के लिए विशेष पास जारी किया गया था. इसकी वैधता 16 से 25 अप्रैल तक है. इसे अनुमंडल दंडाधिकारी नवादा सदर ने जारी किया था.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news