कॉर्पोरेशन बैंक के पूर्व अध्यक्ष एवं अन्य के खिलाफ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की

कॉर्पोरेशन बैंक के पूर्व अध्यक्ष एवं अन्य के खिलाफ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की

एजेंसी ने पारेख एल्युमिनेक्स लिमिटेड, उसके निदेशकों और चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) के खिलाफ 16 जून, 2017 को बैंक की शिकायत पर जांच अपने हाथ में ली थी। कंपनी और सीए को 28 दिसंबर, 2020 को चार्जशीट में शामिल किया गया था।

सीबीआई ने कॉर्पोरेशन बैंक के पूर्व अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक रामनाथ प्रदीप और अन्य अधिकारियों के खिलाफ एक कंपनी द्वारा ऋण चूक के कारण बैंक को 79 करोड़ रुपये के नुकसान के संबंध में आरोप पत्र दायर किया है। अधिकारियों ने कहा कि एसीएमएम, एस्प्लेनेड मुंबई की अदालत में दायर की गई चार्जशीट में जांच एजेंसी ने तत्कालीन मुख्य प्रबंधक एसएन मूर्ति शंकर और कॉर्पोरेशन बैंक एलसीबी, मुंबई के तत्कालीन वरिष्ठ प्रबंधक एपी शिव कुमार का नाम लिया।

एजेंसी ने पारेख एल्युमिनेक्स लिमिटेड, उसके निदेशकों और चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) के खिलाफ 16 जून, 2017 को बैंक की शिकायत पर जांच अपने हाथ में ली थी। कंपनी और सीए को 28 दिसंबर, 2020 को चार्जशीट में शामिल किया गया था। यह आरोप लगाया गया था कि निदेशकों, चार्टर्ड एकाउंटेंट और अन्य ने ई-कॉर्पोरेशन बैंक (अब यूबीआई) से 60 करोड़ रुपये की विभिन्न क्रेडिट सुविधाओं की साजिश रची और उनका लाभ उठाया। 

सीबीआई के प्रवक्ता आरसी जोशी ने कहा कि उन्होंने इस पैसे का निवेश रीयल एस्टेट और अन्य गैर-संबंधित व्यावसायिक गतिविधियों रीयल एस्टेट परियोजनाओं में कर दिया। उन्होंने कहा कि कॉर्पोरेशन बैंक को 79.04 करोड़ रुपये (लगभग) का नुकसान हुआ है। आरोप है कि कॉर्पोरेशन बैंक के अधिकारियों ने उक्त निजी कंपनी के एमडी के साथ साजिश रची और इंडियन ओवरसीज बैंक से अधिकार की पुष्टि किए बिना 59 करोड़ रुपये के वितरण की अनुमति दे दी। 

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news