चारधाम
चारधाम
ताज़ातरीन

1 जुलाई से शुरू हो रही है चारधाम यात्रा, लेकिन खासी सख्त शर्तों के साथ... देखें क्या हैं नियम...

उत्तराखंड के बाहर से आने वाले लोगों को यात्रा शुरू करने से पहले क्वारंटीन प्रक्रिया पूरी करनी होगी, इसके बाद ही वे चारधाम की यात्रा कर सकेंगे.

Yoyocial News

Yoyocial News

चारधाम यात्रा 1 जुलाई से शुरू तो हो रही है लेकिन तमाम बंदिशों के साथ. सबसे पहली बात तो यह कि उत्तराखंड के लोग ही चारधाम यात्रा आसानी से कर सकेंगे. क्योंकि उत्तराखंड के बाहर से आने वाले लोगों को यात्रा शुरू करने से पहले क्वारंटीन प्रक्रिया पूरी करनी होगी, इसके बाद ही वे चारधाम की यात्रा कर सकेंगे.

हालांकि, यह तय है कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए इस बार यात्रा में भीड़ नहीं जुटेगी और श्र्द्धलुओं को बहुत सीमित संख्या में ही जाने कि अनुमति होगी.

उत्तराखंड सरकार द्वारा जारी नियम के मुताबिक, बद्रीनाथ में 1200, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 लोग ही एक दिन में दर्शन कर सकेंगे. इसमें यह भी साफ़ किया गया है कि कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों को किसी भी धाम में जाने की अनुमति नहीं होगी.

दर्शन का समय

1- चारधाम आने वाले श्रद्धालु सुबह सात से शाम के सात तक दर्शन कर पाएंगे.

2- दर्शन में लोगों की भीड़ न लगे, इसके लिए टोकन सिस्टम शुरू होगा. लोगों को टोकन फ्री दिए जाएंगे.

3- चारधाम के यात्रियों को पुजारी के निकट जाना प्रतिबंधित होगा.

नियमों से असहमति

हालांकि देवस्थानम बोर्ड और सरकार के इस फैसले का स्थानीय मंदिर समिति के लोगों ने विरोध किया है. मंदिर समिति का कहना है कि बोर्ड के फैसले को मानने के लिए मंदिर प्रशासन बाध्य नहीं है. उनका कहना है कि चारधाम यात्रा में पूर्व की भांति ही पूजा-पाठ होगा. समिति ने यह भी कहा है कि बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को पूजा कराने की बाध्यता नहीं है.

यात्रा से असहमति भी

हालांकि एक बड़ी संख्या ऐसी भी है जो इस भयावह कोरोना काल में यात्रा शुरू करने के पक्ष में नहीं हैं. उनका कहना है कि यात्रा से कोरोना संक्रमण का दायरा और व्यापक हो सकता है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news