File photo
File photo
ताजा तरीन

सुकमा में नक्सल हमले में 17 जवान शहीद, २० घंटे बाद मिले शव,जवाबी हमले में 7 नक्सल ढेर

जवान नक्सलियों को सरप्राइज एनकाउंटर में फंसाना चाह रहे थे, लेकिन नक्सलियों को खबर लग गई और नक्सलियों ने रणनीति के तहत जवानों को पहले घने जंगलों के अंदर तक आने दिया और फिर घात लगाकर हमला कर दिया.

Yoyocial News

Yoyocial News

छत्तीसगढ़ के बुरी तरह नक्सल प्रभावित सुकमा के जंगलों में शनिवार को हुई एक मुठभेड़ में 17 जवान शहीद हो गए। इस मुठभेड़ में 14 जवानों के शव 20 घंटे बाद रविवार को मिले, हालाँकि 3 जवानों के शहीद होने की देर रात ही पुष्टि हो गई थी। इनमे 12 जवान DRG के और 5 STF के हैं। नक्सल अपने साथ लूटकर 12 एके-47 समेत 22 हथियार भी ले गए। बस्तर के IG पी. सुंदरराज (IG Bastar) ने इसकी पुष्टि की है।

पुलिस को कसालपाड़ इलाके में बड़ी संख्या में नक्सलियों के जमा होने की खबर मिली थी। इसके बाद डीआरजी, एसटीएफ ओर कोबरा के 550 जवान शुक्रवार को दोरनापाल से रवाना किए गए। बताया जा रहा है कि जवान नक्सलियों को सरप्राइज एनकाउंटर में फंसाना चाह रहे थे, लेकिन नक्सलियों तक यह खबर पहले ही पहुंच चुकी थी। नक्सलियों ने रणनीति के तहत जवानों को पहले घने जंगलों के काफी अंदर तक आने दिया और फिर घात लगाकर हमला कर दिया.

मुठभेड़ से लौटे जवानों ने बताया कि पहले तो वे जवान कसालपाड़ के आगे तक गए और जब नक्सली हलचल नहीं दिखी तो लौटने लगे। जवान जैसे ही कसालपाड़ से निकले नक्सलियों के घेरे में फंस गए। कसालपाड़ से कुछ दूर कोराज डोंगरी के पास नक्सलियों ने पहाड़ के ऊपर से जवानों पर हमला बोल दिया। अचानक हुए इस हमले से जवानों को संभलने का मौका नहीं मिला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, ‘‘हमले में शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों को मेरी श्रद्धांजलि। उनकी वीरता को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। उनके परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है।’’ इसके साथ प्रधानमंत्री ने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना भी की है।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि इस मुठभेड़ में कई नक्सली भी मारे गए हैं। 14 घायल जवानों को रायपुर में भर्ती किया गया है। इनमें से दो जवानों की हालत नाजुक है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news