कैमला में किसानों के हंगामे पर बोले CM खट्टर- उकसाए गए नौजवानों ने तोड़ा वादा

कैमला में किसानों के हंगामे पर बोले CM खट्टर- उकसाए गए नौजवानों ने तोड़ा वादा

सीएम मनोहर लाल खट्टर को अपने विधानसभा क्षेत्र में ही सीएम मनोहर लाल खट्टर को किसानों का भारी विरोध झेलना पड़ा। किसानों के विरोध के चलते उन्हें अपना दौरा रद्द करना पड़ा। जिसके बाद सीएम खट्टर ने चंडीगढ़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखी।

हरियाणा के करनाल जिले के कैमला गांव में बीजेपी ने किसान संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जहां पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर किसानों के बातचीत करने वाले थे और उन्हें नए कृषि कानूनों का फायदा समझाने वाले थे। लेकिन किसानों के भारी विरोध की वजह से सीएम मनोहर लाल खट्टर को अपना दौरा रद्द करना पड़ा।

सीएम मनोहर लाल खट्टर को अपने विधानसभा क्षेत्र में ही सीएम मनोहर लाल खट्टर को किसानों का भारी विरोध झेलना पड़ा। किसानों के विरोध के चलते उन्हें अपना दौरा रद्द करना पड़ा। जिसके बाद सीएम खट्टर ने चंडीगढ़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखी।

अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम खट्टर ने कहा, "दिल्ली की सीमाओं पर जो धरने दिए जा रहे हैं खासकर टिगरी और सिंघु बॉर्डर पर उस संबंध में हमारा भी दायित्व बनता है कि किसानों को जो वास्तविकता है वो बताना चाहिए वर्ना एक साइड जो भ्रम फैलाता हुआ नजर आ रहा है ऐसे में अगर लोगों में स्थिति साफ नहीं होगी तो वास्तविकता पता नहीं लगेगी। इससे पहले हमने एक पंचायत की थी, उसकी जानकारी सबको हुई।"

आज की घटना पर बात करते हुए खट्टर ने आगे कहा, "आज हमने एक कार्यक्रम रखा था। कल आंदोलनकारियों के नेताओं से प्रशासन की बात हो चुकी थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि हम एक सांकेतिक प्रदर्शन करेंगे लेकिन रैली में कोई ऐसा प्रदर्शन नहीं करेंगे। उस बात पर विश्वास रखते हुए प्रशासन ने अपनी तैयारी की। लेकिन आज जब मुझे वहां पहुंचना था उससे पहले रैली में बड़ी संख्या में लोग वहां मौजूद थे। लगभग पांच हजार की जनता रैली में मौजूद थी। उस जनता का मैं आभार प्रकट करता हूं। खासकर कैमला गांव जहां ये रैली थी वहां का पूरा का पूरा गांव रैली में था।"

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने करनाल जिले के कैमला गांव में 'किसान महापंचायत' के कार्यक्रम स्थल पर तोड़फोड़ की कड़े शब्दों में निंदा की है। सीएम खट्टर ने इस पूरे घटनाक्रम में कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी का हाथ होने का आरोप लगाया है। खट्टर ने कहा कि किसान आंदोलन की आड़ लेकर कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टी अपनी खोई जमीन हासिल करने की कोशिश में लगी हैं। इसके साथ ही उन्होंने बीकेयू नेता गुरनाम सिंह चरूनी पर भी निशाना साधा।

खट्टर ने आगे कहा, "जैसा कल तय हुआ था उन वादों का उन लोगों ने उल्लंघन किया। कुछ लोग तो वायदे के मुताबिक जहां तय था वहां रुके रहे, लेकिन कुछ नौजवान, जो शायद उकसाए गए थे, उन लोगों ने वायदे का उल्लंघन किया। हमारे नेता मंच पर पहुंचे हुए थे। मुझे वहां हेलीकॉप्टर से पहुंचना था। वो लोग हेलीपैड पर पहुंच गए थे। जिस वजह से मैंने ये समझा कि लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति नहीं बिगड़नी चाहिए इसलिए मैंने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मैंने अपना हेलीकॉप्टर करनाल में उतरवाया।"

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news