बसों पर रार: मजदूरों के लिए ‘कांग्रेसी’ बसें तो नहीं चलीं, आरोपों के तीर चले, धरना हुआ और देर रात FIR
ताज़ातरीन

बसों पर रार: मजदूरों के लिए ‘कांग्रेसी’ बसें तो नहीं चलीं, आरोपों के तीर चले, धरना हुआ और देर रात FIR

प्रदेश सरकार का आरोप है कि बसों की लिस्ट में ऑटो, एंबुलेंस, बाइक तक के नंबर थे. कुछ नंबर पुष्ट ही नहीं हुए, जबकि कुछ बसों के नंबर चोरी के वाहन का होने की आशंका भी जाहिर की जा चुकी है. इस मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने में धोखाधड़ी की FIR दर्ज की है.

Yoyocial News

Yoyocial News

उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन में फंसे श्रमिकों को उनके घर पहुंचने-पहुंचाने में चाहे जितनी दिक्कतें आ रही हों, मजदूर लाख परेशान हों, लेकिन मजदूरों के लिए बसों के नाम पर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा. इस मसले को लेकर कांग्रेस और उत्तर प्रदेश की भाजपा (BJP) सरकार में तनातनी चरम पर है. कांग्रेस का आरोप है कि प्रशासन सरकार के इशारे पर तरह तरह कि बहानेबाजी कर उनकी बसों के आगे जाने से रोक रहा है. इस बीच, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह पर एफआईआर (FIR) भी हो गई है. प्रदेश सरकार को बसों की सूची भेजने के मामले में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए संदीप सिंह के खिलाफ मंगलवार रात एफआईआर दर्ज की गई है.

प्रदेश सरकार का आरोप है कि बसों की लिस्ट में ऑटो, एंबुलेंस और बाइक तक के नंबर मिले थे. कुछ बसों के नंबर की पुष्टि ही नहीं हो पाई थी, जबकि कुछ बसों के नंबर चोरी के वाहन की होने की आशंका भी जाहिर की जा चुकी है. फिलहाल इस मामले में लखनऊ के हजरतगंज पुलिस ने धोखाधड़ी की एफआईआर दर्ज की है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में बसों की एंट्री को लेकर कांग्रेस और योगी सरकार आमने-सामने है. एक ओर जहां आगरा में राजस्थान सीमा पर कांग्रेस के कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए तो वहीं अब पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने तो हद ही कर दी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, अगर आप चाहें तो इन बसों पर बीजेपी के बैनर-पोस्टर लगवा दीजिए, अपने पोस्टर बेशक लगा दीजिए लेकिन हमारे सेवा भाव को मत ठुकराइए.

कांग्रेस महासचिव ने ट्वीट किया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने हद कर दी. जब राजनीतिक परहेजों को परे करते हुए त्रस्त और असहाय प्रवासी भाई-बहनों को मदद करने का मौका मिला तो दुनिया भर की बाधाएं सामने रख दीं.

प्रियंका गांधी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इन बसों पर आप चाहें तो बीजेपी का बैनर लगा दीजिए, अपने पोस्टर बेशक लगा दीजिए लेकिन हमारे सेवा भाव को मत ठुकराइए, क्योंकि इस राजनीतिक खिलवाड़ में तीन दिन व्यर्थ हो चुके हैं. इन्हीं तीन दिनों में हमारे देशवासी सड़कों पर चलते हुए दम तोड़ रहे हैं.

बताते चलें कि प्रियंका गांधी ने 16 मई को ट्वीट कर कहा था कि हजारों श्रमिक, प्रवासी भाई-बहन बिना खाए भूखे-प्यासे पैदल दुनिया भर की मुसीबतों को उठाते हुए अपने घरों की ओर चल रहे हैं. यूपी के हर बॉर्डर पर बहुत मजदूर मौजूद हैं. ऐसे में प्रिंयका ने प्रवासी श्रमिकों के लिए 1000 बसें भेजने के लिए प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी.

पहले योगी सरकार ने इस मांग को ठुकरा दिया था, लेकिन बाद में स्वीकार कर लिया. इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार के प्रशासन ने प्रियंका के कार्यालय से 1000 बसों और चालकों के विवरण की मांग की थी.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news