Goa Election 2022: ममता बनर्जी बोलीं, टीएमसी के नेतृत्व में भाजपा विरोधी मोर्चे में शामिल हो कांग्रेस

तृणमूल कांग्रेस ने राज्य के सबसे पुराने क्षेत्रीय संगठन महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के साथ अगले साल की शुरुआत में 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा के लिए पहले ही गठबंधन कर लिया है।
Goa Election 2022: ममता बनर्जी बोलीं, टीएमसी के नेतृत्व में भाजपा विरोधी मोर्चे में शामिल हो कांग्रेस

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी ने सोमवार को खेल जटलो का नारा लगाते हुए विश्वास जताया कि उनकी पार्टी आगामी गोवा विधानसभा चुनाव जीतेगी। ममता ने कहा कि अगर कोई इस तटीय राज्य में भाजपा को हराना चाहता है, तो यह टीएमसी को उनके समर्थन करने पर निर्भर करेगा। गोवा को एक प्यारा, सुंदर और बहुत बुद्धिमान राज्य बताते हुए ममता बनर्जी ने स्थानीय टीएमसी नेताओं को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी पार्टी ने राज्य को नियंत्रित करने या मुख्यमंत्री बनने के लिए नहीं, बल्कि चुनाव में गोवा के लोगों की मदद करने हेतु अपने अनुभव का उपयोग करने के लिए चुनाव मैदान में प्रवेश किया है। 

ममता बोलीं, एमजीपी के साथ जीतेंगे चुनाव 

तृणमूल कांग्रेस ने राज्य के सबसे पुराने क्षेत्रीय संगठन महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के साथ अगले साल की शुरुआत में 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा के लिए पहले ही गठबंधन कर लिया है। गोवा के दो दिवसीय दौरे पर आई ममता बनर्जी ने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी एमजीपी के साथ राज्य में चुनाव जीतेगी। पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई भाजपा को हराना चाहता है, तो यह उन पर निर्भर है कि वे हमें समर्थन दें। बनर्जी ने कहा कि उनके पास पश्चिम बंगाल की तरह ही गोवा के लिए भी एक योजना है, जिसे सत्ता में आने के छह महीने के भीतर तटीय राज्य में लागू किया जाएगा।

कांग्रेस को गठबंधन में शामिल होने का न्योता

बनर्जी ने इस दौरान कांग्रेस पार्टी को भी निशाने पर लिया और कहा कि पार्टी एक जमींदार की तरह व्यवहार कर रही है और भाजपा के खिलाफ कुछ भी नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि मैं कांग्रेस के खिलाफ नहीं बोलना चाहती हूं। अगर कांग्रेस भाजपा को हराने के बारे में काम करने के लिए सोचती है तो हमें कोई आपत्ति नहीं है। हमने गोवा में एमजीपी के साथ गठबंधन बनाया है। यह एक विकल्प है, आप जुड़ना चाहते हैं तो साथ आइए। बनर्जी ने कहा कि केवल इसलिए कि आप कुछ नहीं कर रहे हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कोई भी कुछ नहीं करेगा।

'मुझे भाजपा से चरित्र प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं'

बनर्जी ने कहा कि गोवा में भाजपा को समाप्त करना चाहते हैं। यहां भाजपा को हराने के लिए सभी को साथ आना होगा। मैं नहीं चाहती की बाहरी लोग गोवा पर नियंत्रण करें। मैं भी एक ब्राह्मण परिवार से आती हूं, मैं एक ब्राह्मण हूं। मुझे भाजपा से चरित्र प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं है।

...इसलिए लिया गोवा में चुनाव लड़ने का फैसला

उन्होंने कहा कि पहले उनकी पार्टी ने गोवा में चुनाव लड़ने के बारे में नहीं सोचा था, लेकिन जब यह महसूस हुआ कि अन्य पार्टियां भाजपा को टक्कर नहीं दे रही हैं, तो टीएमसी ने यहां चुनाव मैदान में उतरने का फैसला किया। इतने सालों में हम गोवा नहीं आए, लेकिन हमने महसूस किया कि कोई कुछ नहीं कर रहा है। भाजपा के खिलाफ कोई नहीं लड़ रहा है। इसलिए हमने यहां आने के बारे में सोचा। परोक्ष रूप से कांग्रेस का हवाला देते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि जब आप पश्चिम बंगाल में हमारे खिलाफ लड़ सकते हैं, तो हम गोवा में आपके खिलाफ क्यों नहीं लड़ सकते। हम आपके साथ काम करना चाहते हैं, लेकिन हम (अपने दम पर) लड़ेंगे। हम आपकी नहीं सुनेंगे और भाजपा के साथ आधी समझ वाली बात नहीं करेंगे।

ममता बनर्जी ने कहा कि गोवा में खेल जटलो होगा। उन्होंने इससे पहले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान 'खेला होबे' का नारा लगाया था। भाजपा के खिलाफ में खेला होबे, खेल जटलो, भाजपा हटाओ। उन्होंने कहा कि फिल्में और फुटबॉल पश्चिम बंगाल और गोवा को जोड़ने वाली विभिन्न चीजों में से एक है।

राकांपा का एकमात्र विधायक भी ममता के साथ

एक अलग कार्यक्रम में ममता ने कहा कि महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) पहले ही उनके भाजपा विरोधी गठबंधन में शामिल हो चुकी है और अब राज्य में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के एकमात्र विधायक चर्चिल अलेमाओ ने पार्टी की राज्य विधायी इकाई का टीएमसी में विलय कर दिया है। हालांकि, पार्टी ने इसका विरोध किया है।

अपनी पार्टी में अलेमाओ को शामिल करते हुए बनर्जी ने कहा कि अगर कांग्रेस को लगता है कि वे भाजपा को हराना चाहते है, तो हमें कोई आपत्ति नहीं है। हम पहले ही एमजीपी से हाथ मिला चुके हैं। अगर आप जुड़ना चाहते हैं तो हमसे जुड़ें। हम पहले ही गठबंधन कर चुके हैं। इससे पहले दिन में अलेमाओ ने राकांपा की गोवा विधायी इकाई का टीएमसी में विलय कर दिया, जिससे छोटे तटीय राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले टीएमसी को बढ़त मिली है।

राज्य की ईसाई आबादी को रिझाने की कोशिश में बनर्जी ने कहा कि वह पिछले 20 साल से क्रिसमस की आधी रात को होने वाली प्रार्थना में शिरकत करती आई हैं। बनर्जी ने भाजपा पर पश्चिम बंगाल में मानवाधिकारों का उल्लंघन दिखाने के लिए फर्जी वीडियो बनाने का आरोप लगाया, जिनमें बांग्लादेश के दृश्य दिखाए जाते हैं। उन्होंने कहा कि हम वीडियो के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गए हैं। भाजपा पश्चिम बंगाल को खत्म करना चाहती है। वे ममता बनर्जी को खत्म करना चाहते हैं।

ममता की भाभी कजारी निकाय चुनावों से राजनीति में आईं

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की भाभी कजारी बनर्जी कोलकाता नगर निकाय चुनावों में टीएमसी की उम्मीदवार होंगी। पहली बार चुनाव में उतर रहीं कजारी ममता के भाई कार्तिक की पत्नी हैं जो वार्ड नंबर 73 से चुनाव लड़ेंगी। कजारी ने कहा कि वे पार्टी से 1993 से जुड़ी हैं और 28 वर्षों से मैं क्षेत्र के लोगों के साथ खड़ी हूं। उन्होंने कहा कि एक महिला होने के नाते उनका मुख्य मुद्दा वार्ड नंबर 73 की महिलाओं की सुरक्षा है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news