महाराष्ट्र: कंटेनमेंट के साथ अब सीलबंद जोन भी शामिल, रेड व ग्रीन जोन में इन पर होगा प्रतिबंध और इन्हें मिलेगी अनुमति
ताज़ातरीन

महाराष्ट्र: कंटेनमेंट के साथ अब सीलबंद जोन भी शामिल, रेड व ग्रीन जोन में इन पर होगा प्रतिबंध और इन्हें मिलेगी अनुमति

लॉकडाउन 4.0 के दौरान महाराष्ट्र के सभी जिलों को 3 जोन में डिवाइड किया गया है। रेड जोन में 15 जिले रखे गए हैं। ऑरेंज जोन में 16 जिले हैं। जबकि ग्रीन जोन में मात्र 5 जिलों को रखा गया है।

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप से बचने को लेकर देशभर में सोमवार से लॉकडाउन को 2 हफ्ते के लिए बढ़ा दिया गया है, जो कि लॉकडाउन 4.0 के रूप में आज से लागू हो गया है और यह 31 मई तक चलेगा। पूरे भारत में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, वहीं सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में अब कंटेनमेंट जोन के साथ सीलबंद जोन का ऑप्शन भी शामिल किया गया है।

हालांकि, बीएमसी ने अभी केवल मुंबई के लिए आदेश जारी किए हैं। अन्य राज्यों को लेकर भी सरकार की तरफ से आज गाइडलाइन जारी कर दी जाएगी। बता दें मुंबई में अभी 661 कंटेनमेंट जोन और कुल 1,110 सीलबंद इमारतें हैं।

लॉकडाउन 4.0 के दौरान महाराष्ट्र के सभी जिलों को तीन जोन में डिवाइड किया गया है। रेड जोन में 15 जिले रखे गए हैं। ऑरेंज जोन में 16 जिले हैं। जबकि ग्रीन जोन में मात्र 5 जिलों को रखा गया है। आज इसका आधिकारिक ऐलान संभव है। महाराष्ट्र सरकार की ओर से जारी निर्देश के मुताबिक ग्रीन जोन में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ केंद्र की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों के अलावा सभी कामों और सेवाओं को शुरू कर दिया गया है।

ग्रीन जोन में सभी ऑफिस भी शुरू कर दिए गए हैं। इसके अलावा मध्यम और छोटे उद्योग शुरू किए जाने की भी ग्रीन जोन में अनुमति दी गई है। हालांकि, प्रतिबंधित क्षेत्रों और रेड जोन में वैसे ही कड़ाई जारी रहेगी। मुंबई और एमएमआर इलाके, पुणे को छोड़कर बाकी सभी जगहों पर सभी सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों को 33% कार्यक्षमता के साथ खोला गया।

पुणे और मुंबई में 5% सरकारी कर्मचारी ही दफ्तरों में रहेंगे, जबकि रेड जोन में प्राइवेट ऑफिस नहीं खुलेंगे। सरकार ने रेड जोन में स्थानीय प्रशासन को यह अधिकार दिया कि किस दुकान को खोलें और किसे नहीं।

केंद्र की ओर से जारी दिशा-निर्देशों में जहां राज्य सरकारों को यातायात की छूट देने की बात कही गई है। वहीं, महाराष्ट्र में एक जिले से दूसरे जिले में जाने पर मनाही जारी रहेगी। यानी ग्रीन जोन से ऑरेंज जोन या ऑरेंज जोन से रेड जोन में कोई भी व्यक्ति नहीं जा सकता। हालांकि, अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा और उन्हें इसमें छूट मिलेगी। ग्रीन जोन में सार्वजनिक बसों और सार्वजनिक ट्रांसपोर्ट को शुरू कर दिया गया है। उन्हें क्षमता से 50% यात्री ले जाने की ही छूट होगी।

उधर, पुणे और अन्य रेड जोन वाले जिलों के लिए भी ऐसे ही कुछ ऑप्शन रखे गए है। अगर किसी इमारत में कोरोना मरीज पाया जाता है तो पूरे इलाके के बजाय उस इमारत या फिर इमारत के कुछ हिस्से को सीलबंद किया जाएगा। इस नियम में हाउसिंग सोसाइटी को भी शामिल किया जाएगा। सीलबंद सोसाइटी में मेडिकल सुविधा के अलावा किसी भी प्रकार के वस्तु बेचने और अन्य सेवा दे रहे व्यक्तियों को प्रवेश के लिए सख्त मनाही रहेगी।

बता दें महाराष्ट्र में सोमवार सुबह तक कोरोना संक्रमण के 33,053 पॉजिटिव केस हो चुके हैं। बीते 24 घंटों के दौरान यहां एक दिन में सबसे ज्यादा 2,347 नए केस सामने आए। जबकि 63 मरीजों ने दम तोड़ दिया। इसमें करीब 1,600 पॉजिटिव मरीज सिर्फ मुंबई में मिले। मुंबई में अब तक कुल 20,150 मरीज हो गए हैं। पूरे राज्य में अब तक कोरोना के 1,198 मरीजों की जान गई। राहत की खबर यह है कि राज्य में अब तक कोरोना से ठीक हुए कुल 7,688 लोगों को डिस्चार्ज किया गया है। राज्य में 2,73,239 सैम्पल लिए गए थे, जिनमें 2,40,186 निगेटिव पाए गए।

मुंबई के धारावी में कोरोना के 44 नए मामले मिले। यहां पर कुल मरीजों की संख्या अब 1,242 हो गई है। अब तक धारावी में 56 लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है। सरकार ने हाल ही में मुंबई की झुग्गियों में बड़े स्तर पर स्क्रीनिंग कराने का भी फैसला लिया है। संदिग्ध पाए जाने वाले लोगों को क्वारैंटाइन करने का निर्णय भी लिया।

प्राइवेट हॉस्पिटल्स के आईसीयू कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व होंगे। मुंबई में संक्रमितों की संख्या 11 दिन में डबल होकर 20 हजार के पार पहुंच गई है। इस बीच बीएमसी ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सभी प्रमुख निजी अस्पतालों में सभी आईसीयू बेड और 80% सामान्य बेड लेने की योजना बनाई है। हालांकि, इससे प्राइवेट ऑपरेटर नाराज हैं। उनका कहना है कि बिना कोरोना संक्रमितों का इलाज भी उतना ही जरूरी है।

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने रविवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में प्रवासी मजदूरों के भाड़े का पूरा खर्च वहन कर रही है। इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के उस दावे को खारिज किया कि केंद्र टिकट खर्च का 85% भुगतान कर रहा है। देशमुख ने कहा- मैं वित्त मंत्री के इस दावे के बारे में सुनकर हैरान हूं कि केंद्र प्रवासी मजदूरों के टिकट का 85% वहन कर रहा है। यह तथ्यात्मक रूप से सही नहीं है।

बेस्ट संयुक्त कामगार कृति समिति ने कर्मचारियों में कोरोना के मामले बढ़ने और सुरक्षा में चूक होने के चलते 18 मई से हड़ताल की घोषणा की थी। हालांकि, आज सुबह भी सड़कों पर कुछ बेस्ट बसें नजर आईं। अब तक बेस्ट के 120 कर्मचारी संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें से 50 ठीक होकर घर आ चुके हैं। 8 कर्मचारियों को जान गंवानी पड़ी है।

उधर, पुणे में रविवार को कोरोना संक्रमण के 223 नए मामले सामने आए। यहां कोविड-19 के कुल मामले बढ़कर 4,018 हो गए। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 से 11 और लोगों की मौत होने के साथ कुल मृतक संख्या बढ़कर 206 हो गई। उन्होंने बताया कि पुणे नगर निगम सीमा क्षेत्र में 209 मामले और पड़ोस के पिंपरी-चिंचवड में 8 और ग्रामीण इलाकों के 6 मामले शामिल हैं।

कोरोनामुक्त हुए गोवा में धीरे-धीरे दोबारा से संक्रमण अपने पैर पसार रहा है। रविवार को मुंबई से गोवा पहुंची ट्रेन में 4 यात्रियों में कोरोना पाया गया है। राज्य में कोरोना के कुल एक्टिव मामले 26 हो गए हैं। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने बताया कि मुंबई-गोवा ट्रेन में 100 सैंपल में 4 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उन्होंने कहा कि सैंपल को अंतिम पुष्टि के लिए गोवा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल की वायरोलॉजी लैब भेजा गया है।

मुंबई में बाहर निकलने पर मास्क नहीं पहनने पर जुर्माने का प्रावधान है। पुलिस के अनुसार, अब तक 2,098 मामले दर्ज किए गए हैं। मास्क नहीं पहनने को लेकर विवाद में कुर्ला इलाके में 6-7 लोगों ने 2 लोगों पर जानलेवा हमला कर दिया था। एंटाप हिल में पुलिस ने मास्क पहनने को लेकर कहा, तो करीब आधा दर्जन लोगों ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। 2 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। 3 पुलिसकर्मी जख्मी हैं।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news