65 वर्ष से कम आयु को कोविड की दूसरी वैक्सीन में देरी से खतरा कम : अध्ययन

अमेरिकी शोधकर्ताओ की एक टीम ने पाया है कि कोविड टीकों की दूसरी खुराक में देरी से 65 वर्ष से कम उम्र के लोगों में कुछ शर्तो के तहत मृत्यु दर में 20 प्रतिशत तक की कमी आ सकती है।
65 वर्ष से कम आयु को कोविड की दूसरी वैक्सीन में देरी से खतरा कम : अध्ययन

अमेरिकी शोधकर्ताओ की एक टीम ने पाया है कि कोविड टीकों की दूसरी खुराक में देरी से 65 वर्ष से कम उम्र के लोगों में कुछ शर्तो के तहत मृत्यु दर में 20 प्रतिशत तक की कमी आ सकती है। द बीएमजे के अध्ययन के अनुसार, इन स्थितियों में एक खुराक वैक्सीन प्रभावशीलता (प्रभावकारिता) 80 प्रतिशत या अधिक और टीकाकरण की दर 0.1 प्रतिशत से 0.3 प्रतिशत जनसंख्या प्रति दिन शामिल है।

यदि ये शर्तें लागू होती हैं, तो प्रति 100,000 लोगों में 47 और 26 लोगों की मौतों को रोकने में मदद मिल सकती है।

मेयो क्लिनिक, मिनेसोटा में मेडिसिन के सहायक प्रोफेसर थॉमस सी किंग्सले सहित शोधकर्ताओं ने कहा, निर्णय निर्माताओं को अपने स्थानीय टीकाकरण दरों पर विचार करने की आवश्यकता होगी और इस रणनीति में शेष अनिश्चितता के साथ एक दूसरी खुराक बनाम जोखिमों में देरी करके इन दरों को बढ़ाने का लाभ होगा।

शोधकर्ताओं ने कहा कि नए डेटा उपलब्ध होने के बाद इन फैसलों का पुर्नमूल्यांकन जारी रहना चाहिए।

दो खुराक अनुसूची में फाइजर और मॉडर्ना कोविड-19 दोनों टीके अधिक संक्रमण और मृत्यु को रोकने में अत्यधिक प्रभावी हैं। लेकिन दुनिया भर में आंशिक रूप से कम टीकाकरण दर के कारण इम्यूनिटी कम है।

वैश्विक आबादी को प्रभावी ढंग से टीकाकरण करने में जितना अधिक समय लगता है, वैक्सीन प्रतिरोधी स्ट्रेन के विकसित होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है। इसने कई लोगों के लिए सिंगल खुराक टीकाकरण को प्राथमिकता देने का आह्वान किया है, भले ही इसका मतलब अध्ययन की गई समय सीमा से परे दूसरी खुराक में देरी हो।

टीम ने कहा, "इसके लिए औचित्य इस धारणा पर निर्भर करता है कि कोविड के खिलाफ सार्थक सुरक्षा वैक्सीन की एक खुराक के बाद हासिल की जा सकती है, लेकिन यह गहन बहस का विषय है।"

इसके आगे का पता लगाने के लिए, उन्होंने संक्रमण पर होने वाली दूसरी खुराक की वैक्सीन की नीतियों, अस्पताल में प्रवेश और वर्तमान में निर्धारित दो खुराक आहार की तुलना में मौतों पर प्रभाव को मापने के लिए निर्धारित किया है। 100,000 अमेरिकी वयस्कों की वास्तविक दुनिया नमूना आबादी के आधार पर सिमुलेशन मॉडल का उपयोग करते हुए, टीम ने छह महीने की अवधि में परि²श्यों की एक श्रृंखला को चलाया।

परिणाम बताते हैं कि दूसरी खुराक में देरी रणनीति प्रतिदिन 0.3 प्रतिशत से कम या उससे कम होने पर टीकाकरण की दरों के लिए फायदा है यदि एक खुराक से टीका प्रभावकारिता 80 प्रतिशत या उससे अधिक है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news