कोविशिल्ड राज्यों को 400 रुपये और प्राइवेट अस्पतालों को 600 रुपये में दी जाएगी

कोविशिल्ड राज्यों को 400 रुपये और प्राइवेट अस्पतालों को 600 रुपये में दी जाएगी

कोविशिल्ड की प्रति खुराक राज्य सरकार को 400 रुपये में और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में बेची जाएगी। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने बुधवार को यह जानकारी दी। कोविशिल्ड को पूरी दुनिया में एस्ट्रेजेनेका के रूप में जाना जाता है।

कोविशिल्ड की प्रति खुराक राज्य सरकार को 400 रुपये में और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में बेची जाएगी। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने बुधवार को यह जानकारी दी। कोविशिल्ड को पूरी दुनिया में एस्ट्रेजेनेका के रूप में जाना जाता है।

एक भारतीय जैव प्रौद्योगिकी और फार्मास्यूटिकल्स कंपनी एसआईआई ने 1 मई से 18 वर्ष की आयु से ऊपर के सभी व्यक्तियों के टीकाकरण की अनुमति देने के बाद एक बयान जारी किया। यह निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फार्मा कंपनियों, डॉक्टरों, कैबिनेट मंत्रियों के साथ बैठक के बाद लिया गया था।

सीरम प्रमुख अदार पूनावाला ने भारत के टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए सरकार की घोषणा का स्वागत किया। पूनावाला ने कहा, " निर्देश टीके के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करेंगे, और इससे राज्य सरकारों, निजी अस्पतालों और टीकाकरण केंद्रों को सीधे वैक्सीन खरीदने की अनुमति मिलेगी।"

उन्होंने यह भी कहा कि अगले दो महीनों के लिए, वे टीके के उत्पादन को बढ़ाकर सीमित क्षमता का निराकरण करेंगे।

कंपनी ने कहा, "हमारी क्षमता का 50 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार के टीकाकरण कार्यक्रम को दिया जाएगा, और शेष 50 प्रतिशत क्षमता राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों के लिए होगी।"

कंपनी ने यह भी कहा कि वैश्विक वैक्सीन की कीमतों को देखते हुए जिसकी कीमत 750 रुपये से 1,500 रुपये प्रति खुराक तक है, वे यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि दुनिया में किसी भी अन्य टीकों की तुलना में भारत में टीके सस्ते हो।

कंपनी ने कहा, "इसके अलावा, जटिलता और आपात स्थिति की वजह से स्वतंत्र रूप से प्रत्येक कॉर्पोरेट इकाई को आपूर्ति करना चुनौतीपूर्ण है। हम सभी कॉरपोरेट और निजी व्यक्तियों से आग्रह करेंगे कि वे वैक्सीन को राज्य की सुविधा वाली मशीनरी और निजी स्वास्थ्य प्रणालियों के माध्यम से एक्सेस करें।"

अगले चार से पांच महीनों में, टीकों को खुदरा और फ्री ट्रेड के रूप में उपलब्ध कराया जाएगा।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news