चक्रवाती तूफान 'Amphan' ने दी दस्तक, कुछ घंटों में ले सकता है विकराल रूप, इन राज्यों पर मंडरा रहा खतरा...
ताज़ातरीन

चक्रवाती तूफान 'Amphan' ने दी दस्तक, कुछ घंटों में ले सकता है विकराल रूप, इन राज्यों पर मंडरा रहा खतरा...

कोरोना काल में प्राकृतिक आपदाएं भी चरम पर हैं. पहले भूकंप और अब चक्रवाती तूफान. बंगाल की खाड़ी में उठ रहे तूफान अम्फान (Amphan) कई राज्यों के लिए खतरा बन सकता है. मौसम विभाग ने यह कह दिया है कि कई राज्यों में भी मौसम बिगड़ सकता है.

By Yoyocial News

Published on :

कोरोना काल में प्राकृतिक आपदाएं भी चरम पर हैं. पहले भूकंप और अब चक्रवाती तूफान. बंगाल की खाड़ी में उठ रहे तूफान अम्फान (Amphan) कई राज्यों के लिए खतरा बन सकता है. मौसम विभाग ने यह कह दिया है कि इस समय देश में वेस्‍टर्न डिस्‍टर्बेंस एक्टिव है, जिसके कारण देश के पहाड़ी क्षेत्रों जैसे, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के साथ ही पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान व पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी मौसम बिगड़ सकता है. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की दक्षिण-पूर्वी खाड़ी और पड़ोसी क्षेत्रों से उठा चक्रवाती तूफान अम्फान अगले 12 घंटे में खतरनाक रूप ले सकता है. दक्षिण पूर्वी बंगाल की खाड़ी में करीब 1000 किलोमीटर की दूरी पर अगले 12 घंटे में चक्रवाती तूफान में तेजी से वृद्धि हो सकती है. ओडिशा के तटीय इलाके और आसपास के क्षेत्र में तूफान की चेतावनी दी है.

कोलकाता में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जी के दास ने बताया कि यह तूफान 20 मई की दोपहर और शाम के बीच में बहुत भीषण चक्रवाती तूफान के तौर पर पश्चिम बंगाल में सागर द्वीपसमूह और बांग्लादेश के हतिया द्वीपसमूहों के बीच पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटीय क्षेत्रों से गुजर सकता है.

पश्चिम बंगाल के मछुआरों को भी चेतावनी दी गई है कि वे 18 से 21 मई के बीच बंगाल की खाड़ी या पश्चिम बंगाल-ओडिशा के तटवर्ती क्षेत्रों में ना जाएं. जो मछुआरे पहले से समुद्र में हैं, उन सभी को 17 मई तक लौटने को कहा गया है. चक्रवाती तूफान अम्फान का असर देश के आठ राज्यों पर पड़ सकता है.

20 मई को इन जिलों के ज्यादातर स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है. दोनों राज्यों के तटीय इलाकों में मंगलवार दोपहर से 55 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जोकि अगले दिन सुबह तक 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच जाएंगी.

राष्ट्रीय आपदा रिस्पांस बल (एनडीआरएफ) ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 17 टीमों को तैनात किया है. एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान ने कहा कि मुख्यालय से स्थिति पर बारीक नजर रखी जा रही है और हम राज्य सरकारों और मौसम विभाग के साथ लगातार संपर्क में हैं.

एनडीआरएफ ने पारादीप में भी अपनी 21 सदस्यीय एक टीम तैनात की हैं. ये लोग पारादीप के तटीय इलाकों और झुग्गी बस्तियों में जागरूकता अभियान चला रहे हैं. ये लोग राहत अभियान चलाने के साथ लोगों को सुरक्षा उपलब्ध कराएंगे. टीम अपने साथ आवश्यक उपकरण और हथियार भी लेकर गई है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news