धार्मिक स्वतंत्रता विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है: दलाई लामा

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है और उन्होंने लोगों से दयालु, ईमानदार और सच्चे होने का आग्रह किया।
धार्मिक स्वतंत्रता विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है: दलाई लामा

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है और उन्होंने लोगों से दयालु, ईमानदार और सच्चे होने का आग्रह किया। गुरुवार को वाशिंगटन में एक अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता (आईआरएफ) शिखर सम्मेलन के समापन दिवस पर एक वीडियो संदेश में आध्यात्मिक नेता ने कहा, "आस्तिक परंपराएं एक निर्माता में विश्वास करती हैं, जबकि जैन धर्म, बौद्ध धर्म और अन्य जैसी गैर आस्तिक परंपराएं तर्क की एक अलग पंक्ति का पालन करती हैं। "

"आजकल हम धार्मिक विश्वास की संरचना और मूल्यों के पालन के बीच अंतर कर सकते हैं जो धर्म का सार है, ईमानदारी और सौहार्दता। गैर-विश्वासियों को भी ईमानदार और सच्चा होना चाहिए। "

उन्होंने कहा कि " इन दिनों, मैं इस बात पर जोर देता हूं कि हमें यह समझने की जरूरत है कि पूरे सात अरब मनुष्य (आज जीवित) समान हैं। हमें मानवता की एकता और सम्मान की सराहना करने और एक-दूसरे की मदद करने की जरूरत है। गैर-विश्वासियों को भी ये ²ष्टिकोण प्रासंगिक लगेगा।"

तीन दिवसीय आईआरएफ शिखर सम्मेलन, जो गुरुवार को संपन्न हुआ, उसने दुनिया भर में धार्मिक उत्पीड़न को संबोधित किया, जिसमें चीन के झिंजियांग उइघुर स्वायत्त क्षेत्र में मुस्लिम उइगरों को लक्षित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया।

दलाई लामा ने कहा, "हम इंसानों में, जानवरों के विपरीत, बहुत तेज बुद्धि है। हमारे पास भविष्य की कल्पना करने की क्षमता भी है। यही वह संदर्भ है जिसमें हमारी विभिन्न धार्मिक परंपराएं विकसित हुईं। इसलिए, धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में एक अभिव्यक्ति है विचार की स्वतंत्रता की।"

"हमारी विभिन्न धार्मिक परंपराओं में अलग-अलग दर्शन और अलग-अलग प्रथाएं हैं, लेकिन सभी एक ही संदेश देते है, प्रेम, क्षमा, संतोष और आत्म-अनुशासन का संदेश। यहां तक कि विश्वास नहीं करने वालों के लिए भी, ये गुण, संतोष, आत्म अनुशासन और अपने से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचना बहुत प्रासंगिक हैं।"

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता ने कहा, "अतीत में, और दुर्भाग्य से आज भी, धर्मों को राजनीतिक कारणों से, या सत्ता की चिंता के कारण, उनके कुछ अनुयायियों के बीच लड़ाई के लिए प्रेरित किया गया है। हमें इस तरह के विचारों को अतीत में छोड़ देना चाहिए।"

बौद्ध भिक्षु, जिन्होंने अपने कई समर्थकों के साथ हिमालय की मातृभूमि से भागकर,भारत में तब शरण ली, जब चीनी सैनिकों ने 1949 में ल्हासा में प्रवेश किया और ल्हासा पर नियंत्रण कर लिया था, बौद्ध शिक्षाओं को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में लाने वाला प्रमुख आध्यात्मिक व्यक्ति हैं।

वह निर्वासन में लगभग 1,40,000 तिब्बतियों के साथ रहते हैं, जिनमें से 1,00,000 से अधिक भारत में हैं। तिब्बत में 60 लाख से अधिक तिब्बती रहते हैं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news