डॉक्‍टरों का चमत्‍कार! मृत लोगों के दिल को मशीन से फिर धड़काया, 6 बच्‍चों में किया ट्रांसप्‍लांट

डॉक्‍टरों का चमत्‍कार! मृत लोगों के दिल को मशीन से फिर धड़काया, 6 बच्‍चों में किया ट्रांसप्‍लांट

दुनिया में चिकित्‍सा के क्षेत्र में दिनों दिन क्रांति आ रही है। ऐसे में ब्रिटेन के डॉक्‍टरों ने एक खास मशीन की मदद से चमत्‍कार कर दिया है। दरअसल वहां डॉक्‍टरों ने 6 बच्‍चों में ऐसे हृदय का ट्रांसप्‍लांट किया है, जो मर चुके लोगों के थे।

दुनिया में चिकित्‍सा के क्षेत्र में दिनों दिन क्रांति आ रही है। ऐसे में ब्रिटेन के डॉक्‍टरों (Doctors) ने एक खास मशीन की मदद से चमत्‍कार कर दिया है।

दरअसल वहां डॉक्‍टरों ने 6 बच्‍चों में ऐसे हृदय का ट्रांसप्‍लांट (Heart Transplant) किया है, जो मर चुके लोगों के थे। इन हृदय या दिल को एक खास मशीन के जरिये फिर से जीवित किया गया था।

ऐसा पहली बार हुआ है क्‍योंकि अब तक ट्रांसप्‍लांट के लिए ऐसे लोगों से हृदय लिया जाता था, जो ब्रेन डेड होते थे। इस ट्रांसप्‍लांट के बाद चिकित्‍सा के क्षेत्र में एक और क्रांति आ गई है।

डॉक्‍टरों का चमत्‍कार! मृत लोगों के दिल को मशीन से फिर धड़काया, 6 बच्‍चों में किया ट्रांसप्‍लांट
गुलाबी ड्रेस पहन मौनी रॉय के एक्‍सप्रेशन ने जीता फैंस का दिल, यूजर्स बार-बार देख रहे विडियो

यह चमत्‍कार किया है ब्रिटेन के नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के डॉक्टरों ने। कैंब्रिजशायर के रॉयल पेपवर्थ हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने जिस मशीन के जरिये इस करिश्मे को किया उसे ऑर्गन केयर मशीन कहा जा रहा है।

डॉक्‍टरों ने इसी मशीन के जरिये मृत व्यक्तियों के दिल को फिर से जिंदा कर उसे धड़काया और 6 बच्‍चों में उसे ट्रांसप्‍लांट किया।

यह डॉक्‍टरों की पहली टीम है, जिसने दुनिया में पहली बार ये मुकाम हासिल किया है। एनएचएस के ऑर्गन डोनेशन एंड ट्रांसप्लांटेशन विभाग के डायरेक्टर डॉ. जॉन फोर्सिथ ने इस बाबत जानकारी देते हुए कहा, 'यह तकनीक ब्रिटेन ही नहीं, बल्कि चिकित्‍सा के क्षेत्र में पूरी दुनिया में मील का पत्थर साबित होगी।'

डॉक्‍टरों का चमत्‍कार! मृत लोगों के दिल को मशीन से फिर धड़काया, 6 बच्‍चों में किया ट्रांसप्‍लांट
सोने से पहले करेंगे यह आसान काम तो वजन घटाने में मिलेगी मदद
डॉक्‍टरों का चमत्‍कार! मृत लोगों के दिल को मशीन से फिर धड़काया, 6 बच्‍चों में किया ट्रांसप्‍लांट
Benefits of Amla : आँवला के फायदे

इस मशीन के जरिये हृदय फिर से जिंदा करके जिन 6 बच्‍चों को ट्रांसप्‍लांट किया गया है, वे कुछ साल से हृदय के डोनर या हृदय मिलने का इंतजार कर रहे थे। इन सबकी उम्र 12 से 16 साल के बीच है।

अभी तक लोगों को उन डोनर से हार्ट मिलता था, जो ब्रेन डेड होते थे। लेकन अब लोगों को ट्रांसप्लांट के लिए लंबे समय तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा। क्‍योंकि इस खास मशीन से मरे हुए लोगों के दिलों को भी फिर से जिंदा किया जा सकता है।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news