भारत पांच हजार किमी. तक खोज सकेगा दुश्मन की मिसाइल, DRDO चीफ डॉ. समीर कामत ने दी जानकारी

डॉ. समीर कामत ने कहा कि 02 नवम्बर के परीक्षण ने हमें 5000 किमी दूर से किसी भी मिसाइल को रोकने में मदद की। अगर हमारे दुश्मन लंबी दूरी से निशाना साधते हैं, तो अब हमारे पास उसे इंटरसेप्ट करने की क्षमता है।
भारत पांच हजार किमी. तक खोज सकेगा दुश्मन की मिसाइल, DRDO चीफ डॉ. समीर कामत ने दी जानकारी

इंटरसेप्टर एडी-1 के सफल परीक्षण के दूसरे दिन रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के चीफ डॉ. समीर कामत ने कहा है कि हमने बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंस (बीएमडी) के पहले चरण में 2000 किमी. तक मिसाइलों को नष्ट करने की क्षमता विकसित की थी।

अब दूसरे चरण के पहले परीक्षण में साबित हो गया है कि भारत 5000 किमी दूर से दागी गई दुश्मन की बैलिस्टिक मिसाइलों को रोककर उसे नष्ट कर सकता है। इस तरह इंटरसेप्टर एडी-1 भारत को आसमान में दुश्मन के बैलिस्टिक हमलों से सुरक्षा प्रदान करेगा।

डॉ. समीर कामत ने कहा कि 02 नवम्बर के परीक्षण ने हमें 5000 किमी दूर से किसी भी मिसाइल को रोकने में मदद की। अगर हमारे दुश्मन लंबी दूरी से निशाना साधते हैं, तो अब हमारे पास उसे इंटरसेप्ट करने की क्षमता है। यह बैलिस्टिक मिसाइलों के खिलाफ हमारी क्षमता में एक महत्वपूर्ण छलांग है।

एक बार जब हमारे राडार दुश्मन की मिसाइल खोज लेंगे, तो उसे ट्रैक करने में भी सक्षम होंगे। इसके बाद हमारी रक्षा प्रणाली को सक्रिय किया जा सकेगा। यह इंटरसेप्टर लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों और एयरक्राफ्ट को पृथ्वी के वायुमंडल में और उससे बाहर दोनों जगह खोजकर उसे नष्ट भी कर सकता है।

उन्होंने बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा इंटरसेप्टर एडी -1 मिसाइल के पहले उड़ान परीक्षण पर कहा कि अब हम समानांतर रूप से उच्च एक्सो-वायुमंडलीय क्षेत्र के लिए विकास कर रहे हैं। 2025 तक हमें अपनी क्षमता साबित करने में सक्षम होना चाहिए, जिसमें इस एडी-1 मिसाइल के साथ-साथ उच्च एक्सो-वायुमंडलीय मिसाइल भी शामिल है।

डीआरडीओ प्रमुख ने कहा कि हम 2025 तक इसे बनाने के लिए पूरी तरह से आश्वस्त हैं। इंटरसेप्टर एडी-1 के सफल परीक्षण के साथ ही भारत दुश्मन के बैलिस्टिक मिसाइलों और एयरक्राफ्ट्स को आसमान में उड़ा देने की क्षमता को 'नेक्स्ट लेवल' तक ले गया है।

इंटरसेप्टर एडी-1 की खासियत इसे लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों के साथ-साथ एयरक्राफ्ट के लो एक्सो-एटमॉस्फेरिक और एंडो-एटमॉस्फेरिक इंटरसेप्शन दोनों के लिए डिज़ाइन किया गया है।

यानी कि इंटरसेप्टर एडी-1 लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों और एयरक्राफ्ट को पृथ्वी के वायुमंडल में और उससे बाहर दोनों जगह खोजकर उसे नष्ट भी कर सकता है। इसे दुश्मन देश की इंटरमीडिएट रेंज और अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों को ध्वस्त करने के लिए डीआरडीओ ने विकसित किया है।

इंटरसेप्टर एडी-1 पृथ्वी के वायुमंडल में धरती की सतह से 20-40 किलोमीटर (एंडो-एटमॉस्फेरिक) के दायरे में दुश्मन की बैलिस्टिक मिसाइल को ध्वस्त कर सकता है। इसके अलावा इंटरसेप्टर एडी-1 धरती से 50-150 किलोमीटर की ऊंचाई के दायरे (एक्सो-एटमॉस्फेरिक) में भी दुश्मन के बैलिस्टिक हथियार को बर्बाद कर सकता है। इस तरह से इंटरसेप्टर एडी-1 भारत को आसमान में दुश्मन के बैलिस्टिक हमलों से सुरक्षा प्रदान करता है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news