मुंद्रा पोर्ट से हेरोइन बरामदगी मामले में DRI ने 8 शहरों में छापेमारी कर 8 लोगों को गिरफ्तार किया

राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने गुजरात की मुंद्रा पोर्ट (बंदरगाह) से 2,988.22 किलोग्राम हेरोइन की जब्ती के मद्देनजर नई दिल्ली और नोएडा सहित आठ शहरों में छापेमारी की।
मुंद्रा पोर्ट से हेरोइन बरामदगी मामले में DRI ने 8 शहरों में छापेमारी कर 8 लोगों को गिरफ्तार किया

राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने गुजरात की मुंद्रा पोर्ट (बंदरगाह) से 2,988.22 किलोग्राम हेरोइन की जब्ती के मद्देनजर नई दिल्ली और नोएडा सहित आठ शहरों में छापेमारी की। डीआरआई ने इस दौरान देश के विभिन्न हिस्सों से चार अफगानी और एक उज्बेक नागरिक सहित आठ लोगों को गिरफ्तार किया है।

एजेंसी ने कहा कि नई दिल्ली, नोएडा, चेन्नई, कोयंबटूर, अहमदाबाद, मांडवी, गांधीधाम और विजयवाड़ा में तत्काल अनुवर्ती कार्रवाई की गई है।

एजेंसी के अनुसार, इस दौरान दिल्ली के एक गोदाम से 16.1 किलोग्राम हेरोइन बरामद हुई है। इसके अलावा 10.2 किलोग्राम पाउडर, जिसका कोकीन होने का संदेह है और 11 किलोग्राम पदार्थ, जिसका हेरोइन होने का संदेह है, नोएडा में एक आवासीय इमारत से बरामद किया गया है।

मामले में अब तक गिरफ्तार किए गए तीन भारतीयों में आयात निर्यात कोड (आईईसी) के धारक शामिल हैं, जिसका इस्तेमाल खेप को आयात करने के लिए किया जाता था। एम. सुधाकर और उनकी पत्नी दुर्गा वैशाली, जो कथित तौर पर विजयवाड़ा-पंजीकृत आशी ट्रेडिंग कंपनी चलाते थे, जिसने खेप को टैल्क स्टोन घोषित करते हुए हेरोइन का आयात किया था, को चेन्नई से गिरफ्तार किया गया था।

एजेंसी ने कहा कि हेरोइन को बड़े बैग में छुपाया गया था, जिसमें असंसाधित टैल्क पाउडर होने की बात कही गई थी। नशीले पदार्थ को बैग की निचली परतों में रखा गया था, जिसमें पता लगाने से बचने के लिए शीर्ष पर टैल्क स्टोन थे।

बरामदगी के बाद हेरोइन को टैल्क स्टोन से अलग करना पड़ा।

दो दिन पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मादक पदार्थों की तस्करी के एक मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया है।

ऑपरेशन के बारे में, डीआरआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उनके द्वारा विशिष्ट खुफिया जानकारी विकसित की गई थी कि आशी ट्रेडिंग कंपनी, विजयवाड़ा द्वारा आयात की गई एक खेप, जिसे अर्ध-संसाधित टैल्क स्टोन के रूप में बताया गया था, जो अफगानिस्तान से आई थी और ईरान के बांदर अब्बास पोर्ट से मुंद्रा पोर्ट भेजी दी गई है। इस खेप के बारे में मादक पदार्थ होने का संदेह होने पर कार्रवाई की गई।

यह बात स्पष्ट हुई है कि ड्रग्स की खेप अफगानिस्तान से ही आई थी।

तदनुसार, डीआरआई के अधिकारियों ने नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक पदार्थ अधिनियम के प्रावधानों के तहत जांच के लिए दो कंटेनर में रखी गई 40 टन की खेप बरामद की।

इस संबंध में परीक्षण फोरेंसिक साइंस लैब, गांधीनगर के विशेषज्ञों की उपस्थिति में आयोजित किया गया है।

जांच के दौरान दोनों कंटेनरों से संदिग्ध मादक पदार्थ बरामद होने की पुष्टि हुई है। एफएसएल ने परीक्षण किया और खेप में हेरोइन की उपस्थिति की पुष्टि हुई है।

डीआरआई ने कहा, पहले कंटेनर से 1,999.579 किलोग्राम और दूसरे कंटेनर से 988.64 किलोग्राम ड्रग्स बरामद की गई है, जो कि कुल 2,988.219 किलोग्राम है। इसे एनडीपीएस अधिनियम, 1985 के प्रावधानों के तहत जब्त किया गया है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.