चुनाव आयोग ने चुनाव और लोकतंत्र पर पहली राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता की शुरू

इस वर्ष, प्रतियोगिता का विषय, जो अंग्रेजी और हिंदी दोनों में होगा, 'चुनावों के दौरान सोशल मीडिया विनियमों के लिए कानूनी ढांचा' और 'चुनावी लोकतंत्र की रक्षा और संरक्षण में चुनाव आयोग की भूमिका' होगा।
चुनाव आयोग ने चुनाव और लोकतंत्र पर पहली राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता की शुरू

चुनाव आयोग ने शुक्रवार को इंडिया इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोक्रेसी एंड इलेक्शन मैनेजमेंट (आईआईआईडीईएम) और जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल (जेजीएलएस),ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 'चुनाव और लोकतंत्र पर भारतीय चुनाव आयोग की वार्षिक राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता' का उद्घाटन संस्करण शुरू किया है। ऑनलाइन प्रतियोगिता 2 अक्टूबर को होगी और प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 21 नवंबर है।

इस वर्ष, प्रतियोगिता का विषय, जो अंग्रेजी और हिंदी दोनों में होगा, 'चुनावों के दौरान सोशल मीडिया विनियमों के लिए कानूनी ढांचा' और 'चुनावी लोकतंत्र की रक्षा और संरक्षण में चुनाव आयोग की भूमिका' होगा।

इस निबंध प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य, भारतीय कानून विश्वविद्यालय, या संस्थान, बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त कॉलेजों द्वारा प्रशासित एक कानून कार्यक्रम का अनुसरण करने वाले छात्रों के लिए खुला है।

निबंध प्रविष्टियों का मूल्यांकन जेजीएलएस फैकल्टी सदस्यों द्वारा चुनाव कानूनों में विशेषज्ञता के साथ, आईआईआईडीईएम के परामर्श से पांच मानदंडों पर किया जाएगा - कंटेंट की मौलिकता, फॉर्मेट और प्रस्तुति, रिसर्च की गुणवत्ता, तर्क और अधिकारियों और उद्धरणों का उपयोग किया जाएगा। विभिन्न श्रेणियों के लिए पुरस्कार होंगे जबकि प्रथम पुरस्कार 1 लाख रुपये का होगा।

चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने अपने संदेश में कहा कि प्रतियोगिता भारत में चुनाव को नियंत्रित करने वाले कानूनों और नीतियों पर शोध करने के लिए लॉ स्कूलों के युवा और उज्‍जवल दिमागों को प्रेरित करने का एक प्रयास है। उनके ज्ञान की गहराई, विश्लेषणात्मक क्षमता और लेखन की प्रेरक शैली का प्रदर्शन करेगा।

चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने अपने संदेश में कहा, "निबंध प्रतियोगिता कानून के छात्रों की प्रतिभा को संवेदनशील बनाने, विकसित करने, दोहन और तेज करने और संविधान, कानून और चुनावी प्रक्रिया की अपनी समझ को व्यक्त करने के लिए वार्षिक प्रतिस्पर्धी अवसर प्रदान करने की एक पहल है।"

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.