चंदौली: बीजेपी MLA और पूर्व SP विधायक की शर्मनाक हरकत, शहीद के शव के सामने ही आपस में भिड़े, बात-बात में दिखाई 'औकात'
ताज़ातरीन

चंदौली: बीजेपी MLA और पूर्व SP विधायक की शर्मनाक हरकत, शहीद के शव के सामने ही आपस में भिड़े, बात-बात में दिखाई 'औकात'

शहीद की शव यात्रा के दौरान सैयदराजा से भाजपा विधायक सुशील सिंह और इसी सीट से पूर्व विधायक व सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह आपस में उलझ गए. दोनों नेताओं में कहासुनी में बात एक दूसरे को देख लेने और औकात तक आ पहुंची.

Yoyocial News

Yoyocial News

यूपी के चंदौली से भाजपा विधायक और पूर्व विधायक की शर्मनाक हरकत सामने आयी है, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. दरअसल, जम्मू-कश्मीर में राजौरी आर्मी बेस पर तैनात सूबेदार कुलदीप मौर्य का पार्थिव शरीर बीते मंगलवार को उनके घर पहुंचा था.

सैनिक को उचित सम्मान न मिलने से नाराज परिजन और ग्रामीण धानापुर थाना चाौराहे पर शव और तिरंगे के साथ धरने पर बैठ गए और विवाद भी शुरू हो गया. हालांकि, सरकार ने उनकी मांग को स्वीकार कर लिया और राजकीय सम्मान के साथ शहीद की अंत्‍येष्टि हुई.

मगर, इन सबके बीच सैयदराजा से पूर्व विधायक मनोज सिंह और वर्तमान विधायक सुशील सिंह आपस में भिड़ गए. बता दें बीते मंगलवार की सुबह सूबेदार कुलदीप मौर्य का पार्थिव शरीर सेना की गाड़ी के बजाय साधारण तरीके से एक एम्बुलेंस से भेज दिया गया. जिससे परिजन और ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया. सपाइयों के धरने में शामिल होने के बाद परिदृश्य ही बदल गया और विवाद की स्थिति बन गई.

इस मामले सपा की बढ़त को देखते हुए मौके पर भाजपा नेताओं का जमावड़ा भी लगने लगा. सैयदराजा विधायक सुशील सिंह, महेंद्र पांडेय के करीबी सूर्यमणि तिवारी, पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह समेत अन्य नेताओं ने मोर्चा संभाला. सेना की वाराणसी बटालियन (39 जीटीसी) ने शहीद को सम्मान देने की तैयारी शुरू की तो धरना समाप्त हुआ, लेकिन विवाद की स्थिति जस की तस रही.

शहीद की शव यात्रा के दौरान सैयदराजा से भाजपा विधायक सुशील सिंह और इसी सीट से पूर्व विधायक व सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह आपस में उलझ गए. दोनों नेताओं में कहासुनी में बात एक दूसरे को देख लेने और औकात तक आ पहुंची. दोनों नेताओं के समर्थक भी हो हल्ला मचाने लगे.

बहरहाल, दोनों दलों के कुछ नेताओं ने बीच बचाव कर मामले को संभाला. खास बात यह रही की दोनों नेता एक दूसरे को देख लेने की धमकी देते रहे. वहीं दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन के लोग मूकदर्शक बने रहे.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news