हाथरस : दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से मिलने जा रहे राहुल को गिरफ्तारी के बाद छोड़ा गया
ताज़ातरीन

हाथरस : दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से मिलने जा रहे राहुल को गिरफ्तारी के बाद छोड़ा गया

दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से मिलने गुरुवार को हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस-वे पर गिरफ्तार कर लिया, बाद में छोड़ दिया गया है। रोकने के दौरान पुलिस के साथ हुई हल्की धक्का-मुक्की में राहुल गांधी जमीन पर जा गिरे।

Yoyocial News

Yoyocial News

दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से मिलने गुरुवार को हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस-वे पर गिरफ्तार कर लिया, जिसके कुछ देर बाद उन्हें अब छोड़ दिया गया है। हाईवे पर राहुल को रोकने के दौरान पुलिस के साथ हुई हल्की धक्का-मुक्की में राहुल गांधी जमीन पर जा गिरे। राहुल गांधी अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और दूसरे नेताओं के साथ गुरुवार सुबह हाथरस के लिए रवाना हुए थे। लेकिन यमुना एक्सप्रेस-वे पर पहुंचते ही इनके वाहनों को पुसिल ने रोक दिया।

घटनास्थल से मिले वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि पुलिस ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को धक्का दिया, जिससे राहुल गांधी जमीन पर गिर गए।

बाद में राहुल गांधी ने मीडिया से कहा, "अभी-अभी पुलिस ने मुझे धक्का दिया, मुझ पर लाठीचार्ज किया और मुझे जमीन पर फेंक दिया। मैं पूछना चाहता हूं, क्या इस देश में केवल (नरेंद्र) मोदीजी ही चल सकते हैं? क्या कोई सामान्य व्यक्ति नहीं चल सकता? हमारा वाहन रोक दिया, तो हमने चलना शुरू कर दिया।"

उत्तर प्रदेश पुलिस ने राहुल गांधी को कहा कि उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है, क्योंकि वह एक ऐसे क्षेत्र में मार्च कर रहे थे जहां धारा 144 लगाई गई है।

राहुल गांधी ने कहा कि भले ही धारा 144 लगा दी गई हो, वह दुष्कर्म पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए अकेले हाथरस की ओर जाएंगे। उसके बाद पुलिस और कांग्रेस नेताओं में तीखी बहस होने लगी।

राहुल गांधी ने पुलिस के रोके जाने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला। राहुल ने एक ट्वीट में आरोप लगाया कि प्रदेश में जंगलराज का यह आलम है कि शोक में डूबे एक परिवार से मिलना भी सरकार को डरा देता है।

उन्होंने ट्वीट किया, "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दुख की घड़ी में अपनों को अकेला नहीं छोड़ा जाता। उप्र में जंगलराज का ये आलम है कि शोक में डूबे एक परिवार से मिलना भी सरकार को डरा देता है। इतना मत डरो, मुख्यमंत्री महोदय!"

इसके अलावा प्रियंका ने भी ट्वीट करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट में कहा, "हाथरस जाने से हमें रोका। राहुल जी के साथ हम सब पैदल निकले तो बारबार हमें रोका गया, बर्बर ढंग से लाठियां चलाईं। कई कार्यकर्ता घायल हैं। मगर हमारा इरादा पक्का है। एक अहंकारी सरकार की लाठियां हमें रोक नहीं सकतीं। काश यही लाठियां, यही पुलिस हाथरस की दलित बेटी की रक्षा में खड़ी होती।"

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी एक ट्वीट के जरिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को रोके जाने की कड़ी निंदा करते हुए उप्र पुलिस की आलोचना की।

अतिरिक्त डीसीपी गौतमबुद्धनगर, रणविजय सिंह ने कहा कि राहुल गांधी को गिरफ्तार किया गया है और उन्हें आगे जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी क्योंकि पुलिस के पास डीएम हाथरस का एक पत्र है जिसमें कहा गया है कि यदि राहुल गांधी वहां जाते हैं, तो यह कानून तोड़ सकते हैं।

इससे पहले गुरुवार सुबह से दिल्ली के डीएनडी पर इस बात की अफवाह थी कि उन्हें डीएनडी बॉर्डर पार नहीं करने दिया जाएगा। लेकिन, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और कांग्रेस के अन्य नेता डीएनडी बॉर्डर को पार कर हाथरस के लिए रवाना हो गए थे।

डीएनडी से आगे यमुना एक्सप्रेस-वे पर जाते ही राहुल गांधी को गिरफ्तार कर लिया गया।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news