तेलंगाना में भारी बारिश से जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त, 13 की मौत व कई इलाके जलमग्न
ताज़ातरीन

तेलंगाना में भारी बारिश से जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त, 13 की मौत व कई इलाके जलमग्न

बुधवार तड़के बारिश कम हुई, लेकिन शहर और उपनगरों में दर्जनों कॉलोनियों में जल भराव रहा जबकि जल भराव और गिरे पेड़ों ने शहर के भीतर और राष्ट्रीय राजमार्गो पर विजयवाड़ा और बेंगलुरु तक वाहनों की आवाजाही को प्रभावित किया।

Yoyocial News

Yoyocial News

तेलंगाना और उपनगरीय इलाकों के कई रिहायशी इलाकों में भारी बारिश के कारण बुधवार को जलभराव की स्थिति देखने को मिली, साथ ही भीषण बारिश के चलते हुए विभिन्न हादसों में कम से कम 13 लोगों की मौत भी हो गई। हैदराबाद में मंगलवार शाम से बारिश हो रही है।

बुधवार तड़के बारिश कम हुई, लेकिन शहर और उपनगरों में दर्जनों कॉलोनियों में जल भराव रहा जबकि जल भराव और गिरे पेड़ों ने शहर के भीतर और राष्ट्रीय राजमार्गो पर विजयवाड़ा और बेंगलुरु तक वाहनों की आवाजाही को प्रभावित किया।

एक सदी में सबसे अधिक बारिश ने शहर और बाहरी इलाकों में जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। सैकड़ों कॉलोनियां अंधेरे में डूब गईं।

बाढ़ वाले इलाकों में लोगों की रात बैचेनी भरी गुजरी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पूर्वानुमान में और अधिक बारिश होने की आशंका जताई है, जबकि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के आयुक्त लोकेश कुमार ने लोगों से घर के अंदर ही बने रहने की अपील की है।

आपदा सेवा बल (डीआरएफ) अग्निशमन सेवा के कर्मियों और पुलिस की मदद से बाढ़ में फंसे लोगों के बचाव में मदद कर रहा है।

पुलिस ने कहा कि बाढ़ में फंसे दर्जनों लोगों को विभिन्न स्थानों पर बचाया गया।

हैदराबाद के पुराने शहर बंदलागुडा में दीवार ढहने और दो घरों पर इसके गिरने से नौ लोग मारे गए और तीन घायल हो गए।

वहीं, शमशाबाद में गगनपहाड़ इलाके में दो व्यक्ति डूब गए और दो अन्य लापता हो गए। अब्दुल्लापुर में दो और लोगों की मौत की खबर है।

डीआरएफ की टीमों ने शहर के टोली चौकी क्षेत्र में नदीम कॉलोनी में बाढ़ के पानी में फंसे लोगों को बचाने के लिए नावों की व्यवस्था की है। देर रात कॉलोनी का दौरा करने वाले हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि 170 घरों से 600 लोगों को निकालकर राहत शिविरों में भेजा गया है।

शहर के मध्य में खैरताबाद, चिन्तल बस्ती, गांधी नगर, मारुति नगर, श्रीनगर और आनंद बाग जैसे क्षेत्रों की कॉलोनियां भी जलमग्न हैं।

शहर के कई हिस्सों में 12 घंटे से अधिक समय तक बिजली गुल रही।

मौसम कार्यालय के अनुसार, शहर के बाहरी इलाके घाटकेसर में रिकॉर्ड 32.20 सेंटीमीटर बारिश हुई, जबकि हयातनगर और हस्तिनापुरम में क्रमश: 29.45 और 28.30 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news