रणजीत बच्चन हत्याकांड: शक की सुई पत्नी, पैसा और अवैध संम्बध पर अटक गई...
रणजीत बच्चन हत्याकांड

रणजीत बच्चन हत्याकांड: शक की सुई पत्नी, पैसा और अवैध संम्बध पर अटक गई...

कालिंदी का कहना है कि उन्होंने रणजीत को काफी देर तक फोन मिलाया, लेकिन संपर्क नहीं हो सका। फिर ध्यान आया कि रणजीत के साथ उनका दोस्त आदित्य टहलने गया है।

विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की लखनऊ में हुई हत्याकांड में पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं। पुलिस के पास 24 से ज्यादा संदिग्ध नंबर हैं जो रणजीत के मोबाइल से मिले हैं। इनमें कुछ नंबर बंद मिले हैं। हत्या के बाद से गायब उनके करीबी लोगों की तलाश शुरू कर दी गई है। पुलिस कुल 80 मोबाइल की डिटेल खंगाल रही है।

 रणजीत बच्चन
रणजीत बच्चन

वारदात से पहले महराजगंज के अभिषेक और ज्योति से रणजीत व उनके दोस्त आदित्य की मुलाकात हुई थी। अभिषेक और ज्योति नौकरी के सिलसिले में ही रणजीत से मिलने लखनऊ आए थे।

 रणजीत बच्चन
रणजीत बच्चन

इस बीच पुलिस ने उन मार्गों की फुटेज खंगाली है, जिनसे रणजीत और उनकी पत्नी कालिंदी टहलने जाते थे। पड़ताल में सामने आया है कि रणजीत की हत्या के काफी देर बाद तक पुलिस का कालिंदी से संपर्क नहीं हो पाया था। इस मामले में पुलिस को कुच और अहम सुराग हाथ ल्गे है जिसके बाद पड़ताल का सिरा रणजीत की तीन पत्नियों, रुपये के लेनदेन व अवैध संबंधों पर अटक गया है। पुलिस के रडार पर 24 से ज्यादा वे संदिग्ध नंबर हैं जो रणजीत के मोबाइल से मिले हैं। इनमें कुछ नंबर बंद भी मिले हैं। पुलिस ने हत्या के बाद से गायब उनके कुछ करीबी लोगों की तलाश भी शुरू कर दी है। कुल 80 मोबाइल्स की डिटेल खंगाली जा रही है

 रणजीत बच्चन
रणजीत बच्चन

पुलिस का शक मार्निंग वाक के दौरान हुई यह हत्या और हत्या के बाद काफी देर तक पत्नी से सम्पर्क न हो पाने में भी उलझा हुआ है. पूछताछ में कालिंदी ने पुलिस को बताया है कि टहलते हुए वो आगे निकल गई और वापस लालबाग पहुंची। इसके बाद वह वहीं पर पार्क के पास टहलने लगीं। इस बीच महाराजगंज से नौकरी के लिए रणजीत के साथ आए अभिषेक की पत्नी से पुलिस ने दुर्घटना के बारे में बताया। जिसके बाद उन्हें जानकारी मिली.

कालिंदी का कहना है कि उन्होंने रणजीत को काफी देर तक फोन मिलाया, लेकिन संपर्क नहीं हो सका। फिर ध्यान आया कि रणजीत के साथ उनका दोस्त आदित्य टहलने गया है। इसके बाद वह आदित्य को लगातार कॉल करती रहीं, लेकिन बात नहीं हो सकी। ज्योति ने दोबारा फोन कर कालिंदी की लोकेशन के बारे में पूछा और बताया कि रणजीत के साथ क्या हुआ है।

हत्या से पहले बदमाश ने रणजीत और आदित्य का फोन छीन लिया था। पुलिस ने लास्ट लोकेशन की पड़ताल की तो दोनों मोबाइल फोन बैकुंठ धाम के पास पड़े मिले। दोनों फोन बंद थे। अब पुलिस इस नतीजे पर आई है कि हमलावर ने जांच की दिशा भटकाने के लिए मोबाइल लूटे थे और बाद में उसे रणजीत की हत्या के दौरान फेंक दिया था।

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news