Holi Special: कुछ घरेलू नुस्खों से रखें त्वचा का ख्याल

Holi Special: कुछ घरेलू नुस्खों से रखें त्वचा का ख्याल

होली के त्‍यौहार पर रंग न खेले जाएं तो यह त्‍यौहार अधूरा सा ही लगता है। मगर होली के रंग को बालों और त्‍वचा से आसानी से निकाल पाना आसान नहीं होता है। इसलिए अधिकतर लोग प्री-होली और पोस्‍ट-होली स्किन और हेयर केयर टिप्‍स की तलाश में रहते हैं।

होली के त्‍यौहार पर रंग न खेले जाएं तो यह त्‍यौहार अधूरा सा ही लगता है। मगर होली के रंग को बालों और त्‍वचा से आसानी से निकाल पाना आसान नहीं होता है।

इसलिए अधिकतर लोग प्री-होली और पोस्‍ट-होली स्किन और हेयर केयर टिप्‍स की तलाश में रहते हैं। खासतौर पर होली का रंग त्‍वचा से कई दिनों तक नहीं जाता है।

ऐसे में बहुत जरूरी है कि होली खेलने के तुरंत बाद आप चेहरे को साफ कर लें। मगर साधारण फेसवॉश या साबुन से अगर आप चेहरा साफ करने की सोच रही हैं तो भूल जाएं कि त्‍वचा पर से रंग निकल पाएगा।

इसलिए होली के रंग को छुड़ाने के लिए आपको उबटन का इस्‍तेमाल करना चाहिए। साथ ही कुछ घरेलू नुस्खों से अपनी त्वचा और बालों का ख्याल भी रख सकती हैं।

त्वचा और बालों के लिए प्राकृतिक उपचार -

तिल के तेल का इस्तेमाल

शरीर से रंगों को हटाने के लिए, तिल के तेल का उपयोग त्वचा पर मालिश करने के लिए किया जा सकता है। यह न केवल रंगों को हटाने में मदद करता है, बल्कि त्वचा को अतिरिक्त सुरक्षा देता है।

तिल के बीज का तेल वास्तव में सूरज-क्षति का मुकाबला करने में मदद करता है। नहाते समय शरीर को लूफा या कपड़े से धीरे-धीरे रगड़ें।

तिल के बीज

तिल के बीज को कुचलकर रात भर पानी में भिगो दें। अगले दिन, इसे चेहरे, गर्दन और बाहों को धोने के लिए दूधिया तरल का उपयोग करें।

यह सनबर्न को शांत करने में मदद करता है। तिल के बीज में सूरज-सुरक्षात्मक गुण होते हैं।

एलो वेरा जेल

त्वचा पर एलो वेरा जेल या रस लगाएं। यह त्वचा को नमी देता है और ड्राइनेस से राहत देता है। यह सूरज की जलन को भी शांत करता है। इसमें जिंक होता है, जो सूजन-रोधी होता है।

एक चम्मच बेसन (बेसन), एक चम्मच दही और एक चम्मच एलोवेरा जेल लें। एक साथ मिलाएं और चेहरे पर लागू करें, इसे 20 मिनट के बाद धो लें।

दही और हल्दी का प्रयोग

4 भाग दही में एक भाग शहद और थोड़ी हल्दी मिलाएं। होली के कुछ दिनों बाद तक रोजाना चेहरे, गर्दन और बांहों पर लगाएं। 20 मिनट बाद धो लें।

यह त्वचा को उज्ज्वल करता है और इसे नरम और चिकना बनाता है।

गेंदे के फूल का इस्तेमाल

मैरीगोल्ड या गेंदे का फूल त्वचा और खोपड़ी की जलन को शांत करने में मदद करता है, जो होली के बाद आम है। तीन कप गर्म पानी में एक मुट्ठी ताजे या सूखे गेंदे के फूल मिलाएं। इसे एक घंटे तक पानी में रहने दें।

पानी को ठंडा करें और इसका उपयोग चेहरे और बालों को धोने के लिए करें या गेंदे के फूल का एक कप लें उन्हें उंगलियों से कुचलें और 2 चम्मच जैतून का तेल डालें। अच्छी तरह ब्लेंड करें। मिश्रण को गर्म स्नान के पानी में मिलाएं।

इन सभी नुस्खों से होली के बाद आप बालों और त्वचा की खूबसूरती बढ़ा सकती हैं और घर पर ही हर्बल कलर बनाकर इस्तेमाल में ला सकती हैं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news