IIT Mandi में स्कूली छात्रों ने सीखी रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक

आईआईटी मंडी रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर अपना पहला स्कूल कैम्प का आयोजन किया है। कैम्प के लिए 1200 से अधिक स्कूली विद्यार्थियों में से सौ छात्र चुने गए। इसमें कम उम्र के छात्रों को रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की कक्षाएं दी गई।
IIT Mandi में स्कूली छात्रों ने सीखी रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक

आईआईटी मंडी रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर अपना पहला स्कूल कैम्प (प्रयास 1.0) का आयोजन किया है। कैम्प के लिए 1200 से अधिक स्कूली विद्यार्थियों में से सौ छात्र चुने गए। इसमें कम उम्र के छात्रों को रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की कक्षाएं दी गई।

इन छात्रों ने रोबोट बनाने के लिए आवश्यक विभिन्न कम्पोनेंट को आपस में जोड़ने के लिए प्रोग्रामिंग की विभिन्न प्रौद्योगिकियों, सेंसरों, एक्च ुएटरों, संचार उपकरणों और बिजली उपकरणों का उपयोग सीखा। कक्षाओं में सैद्धांतिक कांसेप्ट और व्यावहारिक ज्ञान के सत्र दोनों शामिल थे। साथ ही, छात्रों के लिए विभिन्न खेल आयोजित किए गए और उन्हें कैम्पस के कई लैब जैसे मैन्युफैक्च रिंग मशीन, टिंकरिंग लैब और अन्य देखने का अवसर दिया गया।

कैम्प में छात्रों ने एक लाइन पर चलने में सक्षम रोबोट, बाधा से बच कर चलने में सक्षम रोबोट और फिर ब्लूटूथ - नियंत्रित कार बनाने की सक्षमता पाई। साथ ही, प्रोसेसिंग सेंसर डेटा और पायथन लैंग्वेज की जानकारी हासिल की। उन्हें रोबोटिक्स और प्रोग्रामिंग की बुनियादी जानकारी दी गई। इस कैम्प में उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की दुनिया और इसके उपयोगों को जानने का मौका मिला। प्रतिभागी टीमों को टेक होम रोबोटिक्स किट प्रदान की गई ताकि वे बाद में भी इस प्रौद्योगिकी के साथ खुद कुछ नया कर सकें।

प्रयास 1.0 पूरी तरह आवासीय प्रोग्राम था जिसमें विद्यार्थियों ने रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की बुनियादी जानकारी प्राप्त की ताकि वे अपने करियर के शुरूआती दौर में ही पूरा ऑटोमेटेड सिस्टम विकसित करें।

कम उम्र के विद्यार्थियों के लिए समर कैंप की अहमियत बताते हुए डॉ. लक्ष्मीधर बेहरा, निदेशक, आईआईटी मंडी ने कहा, मैं चाहता हूं कि आने वाले समय में आईआईटी मंडी में हिमाचल के विद्यार्थियों का अनुपात कम से कम 50 प्रतिशत हो। इसलिए स्कूली बच्चों को शुरूआती दौर में ही कौशल विकसित करने को प्रोत्साहित करता हूं और चाहता हूं कि वे इस अवसर का अधिक से अधिक लाभ उठायें। उन्होंने बताया कि अगली बार उनका संस्थान स्कूलों और आईटीआई के शिक्षकों को आमंत्रित करेगा ताकि वे आईआईटी मंडी के फैकल्टी और लैब की सुविधाओं का व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करें।

प्रयास 1.0 के पहले सीजन के बारे में बोलते हुए सेंटर फॉर कंटिन्यूइंग एजुकेशन, आईआईटी मंडी के प्रमुख डॉ. तुषार जैन ने कहा, प्रयास 1.0 के साथ प्रौद्योगिकी कौशल के विकास का नया दौर शुरू हो गया है। स्कूली बच्चों के लिए यह एक अभूतपूर्व अवसर है जिससे उन्हें भविष्य में आईआईटी मंडी का हिस्सा बनने की प्रेरणा मिली। इस प्रयास से उनके सामाजिक, प्राद्योगिकी और मानवीय मूल्यों के कौशल का विकास हुआ।

बच्चों के आईआईटी मंडी कैम्पस प्रवास में उनके लिए नियमित योगा और एरोबिक्स क्लास, भगवद गीता के सत्र आयोजित किए गए और कई उत्साहवर्धक डॉक्युमेंटरी दिखाई गई। छात्रों ने एनएसएस आईआईटी मंडी के साथ आयोजित वृक्षारोपण अभियान में आसपास के क्षेत्रों में 200 से अधिक पौधे लगाए।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news