भारतीय नौसेना ने लाल सागर में किया अभ्यास

भारतीय नौसेना ने लाल सागर में किया अभ्यास

इस अभ्यास में 'नौसेना संचालन को कवर करने वाली कई गतिविधियां' शामिल हैं जैसे समन्वयित युद्धाभ्यास, समुद्र में फिर से भराई का अभ्यास, हेलो ऑपरेशन, समुद्र में संदिग्ध जहाजों को रोकने के लिए संचालन और संचार प्रक्रियाएं।

भारतीय नौसेना ने 10 सितंबर को लाल सागर में सूडानी नौसेना के साथ समुद्री साझेदारी अभ्यास किया। 2000 के दशक में एक मजबूत ऊर्जा साझेदारी के निर्माण के बावजूद, यह पहली बार था जब भारतीय और सूडानी नौसेनाओं ने इस तरह का अभ्यास किया। भारतीय पक्ष से, आईएनएस तबर ने सूडानी जहाजों अल्माज और निमाड़ के साथ अभ्यास में हिस्सा लिया।

इस अभ्यास में 'नौसेना संचालन को कवर करने वाली कई गतिविधियां' शामिल हैं जैसे समन्वयित युद्धाभ्यास, समुद्र में फिर से भराई का अभ्यास, हेलो ऑपरेशन, समुद्र में संदिग्ध जहाजों को रोकने के लिए संचालन और संचार प्रक्रियाएं। इस अभ्यास ने 'दोनों नौसेनाओं के बीच अंतसंर्चालनीयता को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाया और भविष्य में आम समुद्री खतरों के खिलाफ संयुक्त अभियानों के दायरे को बढ़ाया है।'

आईएनएस तबर यूरोप और अफ्रीका में विदेशी तैनाती पर है। सूडान के अलावा, उसने भूमध्य सागर में मिस्र की नौसेना के साथ नौसैनिक अभ्यास भी किया है। मिस्र और सूडान लाल सागर की भू-राजनीति में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और स्वेज नहर के साथ निकटता के कारण, सबसे महत्वपूर्ण समुद्री मार्गों में से एक के साथ स्थित हैं।

लाल सागर भू-राजनीति

लाल सागर पश्चिम एशिया को अफ्रीका से जोड़ता है और एक महत्वपूर्ण भू-राजनीतिक स्थान है। लाल सागर बाब-अल-मंडेब और स्वेज नहर की जलडमरूमध्य के माध्यम से हिंद महासागर को भूमध्य सागर से भी जोड़ता है। बड़ी मात्रा में तेल और व्यापार लाल सागर से होकर गुजरता है। यह वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा और अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के लिए एक महत्वपूर्ण जलमार्ग है। स्वेज नहर की हालिया रुकावट ने वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए लाल सागर और स्वेज नहर की रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित किया।

पिछले कुछ वर्षों में, लाल सागर पश्चिमी हिंद महासागर (डब्ल्यूआईओ) की उभरती भू-राजनीति में एक महत्वपूर्ण उप-रंगमंच के रूप में उभरा है। विदेशी शक्तियों ने इस क्षेत्र में अपनी सैन्य उपस्थिति स्थापित कर ली है और लाल सागर में और उसके आसपास समुद्री और महाद्वीपीय अंतरिक्ष के मामलों में अधिक रुचि ले रही हैं। रूस, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस), फ्रांस और जापान के पास इस क्षेत्र में सैन्य सुविधाएं हैं। यहां तक कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और सऊदी अरब भी क्षेत्रीय भू-राजनीति और सुरक्षा के प्रक्षेपवक्र को आकार देने में सक्रिय हैं।

आतंकवाद और समुद्री डकैती जैसे सुरक्षा खतरों की उपस्थिति ने इस क्षेत्र में विदेशी शक्तियों को पनपने दिया। अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक युद्ध शुरू करने के बाद जिबूती सहित डब्ल्यूआईओ और अफ्रीका में अपने ठिकानों का बड़ा नेटवर्क स्थापित किया। 2007-08 के आसपास अदन की खाड़ी में समुद्री डकैती से वैश्विक नौवहन को खतरा था और सोमालिया अपने क्षेत्रीय जल से समुद्री लुटेरों का संचालन करने में असमर्थ था। इसलिए, एक बहुराष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा प्रयास शुरू किया गया था। रूस, चीन, जापान और दक्षिण कोरिया सहित प्रमुख शक्तियों की नौसेनाओं ने समुद्री डकैती विरोधी अभियानों में भाग लेने के लिए अपने युद्धपोत इस क्षेत्र में भेजे थे।

भारतीय नौसेना की उपस्थिति

भारतीय नौसेना ने भी समुद्री डकैती रोधी अभियानों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत एक निवासी नौसैनिक शक्ति है, जिसमें उत्तर पश्चिमी हिंद महासागर के उप-थियेटर सहित हिंद महासागर में क्षेत्रीय सुरक्षा के रखरखाव में योगदान करने की इच्छा है। इन वर्षों में, भारत अदन की खाड़ी और दक्षिण-पश्चिम हिंद महासागर में अपनी समुद्री उपस्थिति को नियमित करने में कामयाब रहा है। समय-समय पर, भारत ने इस क्षेत्र के तटवर्ती राज्यों को अति आवश्यक मानवीय सहायता प्रदान की है। भारत ने इस क्षेत्र में खुद को 'पसंदीदा सुरक्षा भागीदार' के रूप में भी स्थान दिया है।

भारतीय नौसेना को उत्तर पश्चिमी हिंद महासागर के क्षेत्रीय भू-राजनीति में विशिष्ट रूप से रखा गया है। इसके अमेरिका, जापान और फ्रांस के साथ घनिष्ठ संबंध हैं, और इसके परिणामस्वरूप,भारतीय नौसेना के जहाज जिबूती में अपने नौसैनिक ठिकानों तक पहुंच सकते हैं। पोर्ट सूडान में रूस का आगामी नौसैनिक अड्डा लाल सागर और हकड में भारतीय और रूसी नौसेनाओं के बीच अधिक सहयोग के अवसर भी खोलता है।

संयुक्त अरब अमीरात के साथ भारत की गहरी रणनीतिक साझेदारी को लाल सागर और अदन की खाड़ी की भू-राजनीति के संदर्भ में समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में और मजबूत किया जा सकता है। भारत और ताइवान चीनी शक्ति को नियंत्रित करने में रुचि रखते हैं। सोमालिलैंड में ताइवान की उपस्थिति और लाल सागर के साथ संयुक्त अरब अमीरात की सुविधाओं और बेरबेरा सहित अदन की खाड़ी में क्षेत्र में चीनी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के लिए लाभ उठाया जा सकता है।

स्वेज नहर और जापान के बीच स्थित पूरे क्षेत्र में भारतीय समुद्री पदचिह्न् का विस्तार हो रहा है। मित्र देशों के साथ नौसैनिक अभ्यास करने और रक्षा कूटनीति करने के लिए नियमित रूप से युद्धपोतों की तैनाती से इस क्षेत्र में बढ़ती दिलचस्पी प्रदर्शित होती है। नतीजतन, भारतीय नौसेना संकेत दे रही है कि पश्चिमी प्रशांत और लाल सागर उसके सामरिक रंग के अभिन्न अंग के रूप में उभर रहे हैं।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news