symbolic photo
symbolic photo
ताज़ातरीन

बोगियों के डिजाइन और रंग में बदलाव करने जा रही रेलवे, और बहुत कुछ हो रहा चेंज

गोरखपुर के रेलवे वर्कशॉप को पहले चरण में 156 बोगियों के रिफरबिसमेंट की जिम्मेदारी मिली है। इसके लिए 40 करोड़ का टेंडर जारी हो गया है। ये सभी बोगियां 4 महीने के अंदर बिल्कुल नई जैसी हो जाएंगी।

Yoyocial News

Yoyocial News

भारतीय रेलवे बोगियों के डिजाइन और रंग में बदलाव करने जा रही है। ट्रेन की बोगियां अंदर से आरामदेय होने के साथ-साथ आंखों को सुकून भी देंगी। कुछ औपचारिकताओं के बाद जल्द ही अंदरूनी दीवारें समुद्री हरे रंग में दिखाई देंगी। डॉक्टरों का कहना है कि हरा रंग आंखों को सुहाता है। विज्ञान इसकी वजह बताता है कि सात रंगों के मिश्रण (विब्ग्योर) में यह सबसे बीच का रंग है। इसका वेब औसत होता है। जिससे यह आंखों में चुभता नहीं है।

वहीं, वर्कशॉप में काम कर रहे फर्म ने रंगों को प्रोटोटाइप तैयार कर लिया है। जल्द ही इस प्रोटोटाइप को मंजूरी मिलने की उम्मीद है। मंजूरी मिलते ही रंगों को बदलने का काम दूसरी बोगियों में भी शुरू कर दिया जाएगा।

गोरखपुर के रेलवे वर्कशॉप को पहले चरण में 156 बोगियों के रिफरबिसमेंट की जिम्मेदारी मिली है। इसके लिए 40 करोड़ का टेंडर जारी हो गया है। ये सभी बोगियां 4 महीने के अंदर बिल्कुल नई जैसी हो जाएंगी। इनमें टॉयलेट की फिटिंग काफी सुविधाजनक होगी। दरवाजे के पास काफी जगह बढ़ जाएगी, जिससे यात्री बेसिन के पास आराम से हाथ-मुंह धुल सकते हैं। इस स्कीम के तहत उन बोगियों का कायाकल्प किया जा रहा है, जिनकी उम्र 12 साल पूरी हो चुकी है। 6 बोगियां सितम्बर के आखिरी सप्ताह तक बाहर आ जाएंगी।

ये होंगे चेंज...

न्यू मॉडीफाइड कोच में किसी भी जगह कोई स्क्रू या हुक नहीं दिखेगा। सभी फिटिंग स्मार्ट होंगी। सीट के रंग से मैचिंग फ्लोरिंग और सीलिंग रहेगी। सीट में भी अहम बदलाव किया गया है। इसमें मोटा फोम लगाया जाएगा।

वर्कशॉप में जिन 156 कोच को नया जैसा करना है उनमें 75 जनरल कोच और 81 स्लीपर कोच शामिल हैं। बोगियों में सामान्य माइका की जगह जीएफआरई फायर प्रूफ माइका लगाया जाएगा। इससे आग लगने की आशंका भी न के बराबर रहेगी।

पंकज कुमार सिंह, सीपीआरओ ने बताया कि कुछ बोगियां वर्कशॉप में रिफर्बिशमेंट के लिए आई हैं। उसमें अंदरूनी बदलाव के साथ ही अंदर की दीवारों का रंग भी बदलना प्रस्तावित है। मॉडल के रूप में प्रोटोटाइप तैयार किया गया है। मंजूरी मिलते ही यहां आईं बोगियों में काम शुरू कर दिया जाएगा। रंगों का चयन इस प्रकार किया जा रहा है कि यात्रियों को सुकून मिले।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news