फिर बढ़ी ITR दाखिल करने की तारीख, टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत, ऐसे करें फाइल
ताज़ातरीन

फिर बढ़ी ITR दाखिल करने की तारीख, टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत, ऐसे करें फाइल

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान जारी कर यह सूचना साझा की है। सरकार के इस फैसले से लाखों टैक्सपेयर्स को राहत मिलेगी। कोरोना संकट को देखते हुए सरकार ने लोगों को यह राहत दी है।

Yoyocial News

Yoyocial News

केंद्र सरकार ने बुधवार (24 जून) को वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन को 31 जुलाई, 2020 तक बढ़ा दिया। इसके अलावा वित्त वर्ष 2019-2020 (एवाई 2020-21) के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन को 30 नवंबर, 2020 तक पहले ही बढ़ाया जा चुका है।

यही नहीं छोटे और मध्यम वर्ग के करदाताओं को कोरोना संकट की इस घड़ी में राहत मिल सके इसके लिए सरकार ने टैक्सपेयर्स के मामले में स्व-मूल्यांकन टैक्स के भुगतान की डेडलाइन भी बढ़ा दी है। वहीं टैक्सपेयर्स (1 लाख से ज्यादा कर देयता) के लिए स्व-मूल्यांकन टैक्स भुगतान की डेडलाइन विस्तार नहीं होगा।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान जारी कर यह सूचना साझा की है। सरकार के इस फैसले से लाखों टैक्सपेयर्स को राहत मिलेगी। कोरोना संकट को देखते हुए सरकार ने लोगों को यह राहत दी है।

महामारी के प्रसार को देखते हुए टैक्सेशन और अन्य कानून अध्यादेश 2020 के तहत सरकार ने मार्च में इनकम टैक्स कानून के विभिन्न अनुपालनों की समयसीमा को 30 जून, 2020 तक बढ़ा दिया था। इसी को आगे बढ़ाने के लिए एक अधिसूचना जारी की गई है जिसमें नई डेडलाइन 31 जुलाई घोषित की गई है।

टैक्स ऑनलाइन भरना बेहद आसान है और इसमें कुछ ही मिनट लगते हैं। आप घर बैठे ही इस काम को पूरा कर सकते हैं। इसके लिए कुछ आसान से स्टेप्स को फॉलो करना होगा।

आपको सबसे पहले अपने कंप्यूटर या लैपटॉप पर इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com/ पर विजिट करना होगा। इसके बाद ‘Services’ सेक्शन पर जाना होगा।

ड्रॉप डाउन मेन्यू से ई-पेमेंट के लिए ‘Pay Taxes Online’ विकल्प को चुनें।

अपनी जरूरत के हिसाब से चालान का ऑप्शन सेलेक्ट करें, मसलन ये TNS 280, ITNS 281, ITNS 282, ITNS 283, ITNS 284 या फॉर्म 26 डिमांड पेमेंट आदि।

इतना करते ही आपको PAN और TAN आदि की जानकारी दर्ज करनी होगी। इसके साथ ही चालान डिटेल्स भी। बैंक, नाम और एड्रेस आदि की जानकारी भी दर्ज करें और ‘Submit’ पर क्लिक कर दें।

इसके बाद आपको कन्फर्मेशन मैसेज मिलेगा, जिसके बाद आप बैंक के नेट-बैंकिंग पोर्ट पर रीडायरेक्ट कर दिए जाएंगे। यहां नेट बैंकिंग के लिए लॉग इन करें।

जैसे ही आप लॉग इन करेंगे आपको पेमेंट डीटेल्स भरने के लिए कहा जाएगा। इस भरें और पेमेंट कर दें। इसके बाद वेबसाइट पर CIN के साथ अन्य जानकारियां आ जाएंगी। इन जानकारियों को आप कहीं पर नोट कर लें या फिर प्रिंट निकाल लें।

बता दें कि बीते दिनों सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा को 30 नवंबर, 2020 तक के लिए बढ़ा दिया था। इसका मतलब ये हुआ कि आयकर की जो रिटर्न 31 जुलाई, 2020 तक भरी जानी थी उन्हें अब 30 नवंबर, 2020 तक दाखिल किया जा सकता है।

बीते दिनों इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने एक बयान जारी कर टैक्‍सपेयर्स को कहा था कि बैंक खाते को प्री-वैलिडेट (पहले से सत्यापित) करा लें। इससे रिफंड मिलने में देरी नहीं होगी। इसके मुताबिक अगर आपका कोई रिफंड बनता है तो वह आपको इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के सेंट्रलाइज्‍ड प्रोसेसिंग सेंटर (CPC) के जरिए मिल जाएगा।

हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि आपका बैंक अकाउंट प्री-वैलिडेट हो। आप ऑनलाइन भी बैंक अकाउंट को प्री-वैलिडेट करा सकते हैं।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news