शादी के महज 4 दिन बाद ही कोरोना की जंग में जुट गई एएनएम
ताज़ातरीन

शादी के महज 4 दिन बाद ही कोरोना की जंग में जुट गई एएनएम

एएनएम ने बताया कि शादी के 4 दिन बाद ही वे अपनी ड्यूटी पर लौट आई, ससुराल पक्ष से कोई भी मेडिकल क्षेत्र से नहीं हैं, उसके बावजूद सभी ने उन्हें उमरियापान अस्पताल में ड्यूटी करने के लिए प्रेरित किया। परिणामस्वरुप उसने अपनी ड्यूटी पर आना तय किया।

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना महामारी के खात्मे के लिए हर कोई अपने स्तर पर जिम्मेदारी निभा रहा है। मध्य प्रदेश के कटनी जिले में तो एक एएनएम (नर्स) प्रतीक्षा त्रिपाठी हाथों की मेहंदी छूटने से पहले ही कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में जुट गईं।

एएनएम प्रतीक्षा त्रिपाठी कटनी जिले के ढीमरखेड़ा विकासखंड मुख्यालय की रहने वाली हैं और उनकी ड्यूटी इन दिनों उमरियापान के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में है। प्रतीक्षा की कोरोना संक्रमण काल के बीच सामाजिक रीति-रिवाज से सात मई को शादी हुई। शादी के महज चार दिन बाद 11 मई को ही वह ड्यूटी पर लौट आईं।

उनके हाथों पर अभी मेहंदी का रंग सुर्ख है, आमतौर पर शादी के बाद एक पखवाड़े तक दंपति धार्मिक अनुष्ठान और अन्य कार्यों में व्यस्त रहते है, मगर प्रतीक्षा ने इस लड़ाई के सैनानी के तौर पर अपनी जिम्मेदारी के निर्वाहन को ज्यादा अहमियत दी है।

प्रतीक्षा त्रिपाठी ने बताया कि शादी के चार दिन बाद पांचवे दिन ही अपनी ड्यूटी पर लौट आई, ससुराल पक्ष से कोई भी मेडिकल क्षेत्र से नहीं हैं, उसके बावजूद सभी ने उन्हें उमरियापान अस्पताल में ड्यूटी करने के लिए प्रेरित किया। परिणामस्वरुप उसने अपनी ड्यूटी पर आना तय किया।

उनका कहना है कि कोरोना महामारी में भविष्य की स्थिति अभी तय नहीं, फिर भी नियमित रूप से कोरोना संकट में लोगों की मदद करना उनका धर्म है। उनकी जो जिम्मेदारी है उसका वह निर्वाहन कर रही है।

प्रतीक्षा उमरियापान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत आने वाले लोगों के घर-घर जाकर कोरोना का फॉलोअप कर क्वारंटीन और होम क्वारंटीन लोंगो को जानकारी भी जुटा रही हैं। प्रतीक्षा के हाथों की मेहंदी देखकर लोग उनसे सवाल भी करते हैं कि मगर उनका एक ही जवाब होता है कि इस समय उनकी ड्यूटी ज्यादा जरुरी है, इसलिए वह शादी के कुछ दिन बाद ही अपनी ड्यूटी पर लौट आई हैं।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news