माघ मेला शुरू होते ही लाखों भक्तों ने मकर संक्रांति पर स्नान किया, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

भीड़ को नियंत्रित करने और कोविड प्रोटोकॉल के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने में अधिकारियों को संघर्ष करना पड़ा।
माघ मेला शुरू होते ही लाखों भक्तों ने मकर संक्रांति पर स्नान किया, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

भय पर विश्वास की जीत कराते हुए लाखों भक्तों ने मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर संगम में पवित्र स्नान किया।

भक्तों ने मास्क और सामाजिक दूरी की परवाह किए बिना पवित्र डुबकी लगाई।

47 दिवसीय वार्षिक धार्मिक मेला शुक्रवार सुबह आधिकारिक रूप से शुरू हुआ।

मकर संक्रांति की पूर्व संध्या पर गुरुवार से बड़ी संख्या में श्रद्धालु, साधु-संत इस अवसर पर पहुंचने लगे थे। इस बीच तीसरी कोरोना लहर का खौफ कहीं नजर नहीं आया।

भीड़ को नियंत्रित करने और कोविड प्रोटोकॉल के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने में अधिकारियों को संघर्ष करना पड़ा।

मेला पदाधिकारी शेषमणि पांडेय ने बताया कि नदियों या तटों पर भीड़ को रोकने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस बार तीर्थयात्रियों के लिए दस मुख्य स्नान घाट बनाए गए हैं। ये संगम के पास नागवासुकी से किला घाट तक फैले होंगे ताकि श्रद्धालुओं को एक जगह भीड़भाड़ लगाने से बचाया जा सके।

मेला क्षेत्र के विभिन्न सेक्टरों में 13 थाना और 38 पुलिस चौकियां हैं। इनके अलावा 13 फायर स्टेशन हैं और पूरे मेला क्षेत्र पर 13 वाच टावर से नजर रखी जा रही है। इन टावरों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news