Lockdown migration (File photo)
Lockdown migration (File photo)
ताज़ातरीन

Lockdown: PM मोदी के 7 आग्रहों पर कांग्रेस ने भी दागे 7 सवाल, मांगा जवाब

कांग्रेस ने कहा कि देश लॉकडाउन का समर्थन करता है, लेकिन सरकार को सिर्फ देशवासियों को उनकी जिम्मेदारी का अहसास नहीं कराना चाहिए, बल्कि अपनी जिम्मेदारियों का भी निर्वहन करना चाहिए. कांग्रेस ने पूछा कि सरकार मजदूरों-किसानों के लिए क्या कदम उठा रही है...

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना वायरस के संक्रमण से फैली महामारी को मात देने के लिए केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन को 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार की सुबह राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लोगों से सात अपील की और इसे 'सप्तपदी' मानते हुए इस पर अमल करने का आग्रह किया. कहा कि इसी में है 'कोरोन पर विजय पाने का रास्ता'.

लेकिन कांग्रेस ने अब पीएम पर निशाना साधा है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया कि देश लॉकडाउन का समर्थन करता है, लेकिन सरकार को सिर्फ देशवासियों को उनकी जिम्मेदारी का अहसास नहीं कराना चाहिए, बल्कि अपनी जिम्मेदारियों का भी निर्वहन करना चाहिए.

कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार के द्वारा लॉकडाउन बढ़ाने का समर्थन तो किया है, लेकिन साथ ही कई सवाल भी पूछे हैं. कांग्रेस की ओर से प्रधानमन्त्री मोदी के 7 पाठ के जवाब में पूछा गया है कि सरकार मजदूरों और किसानों को आर्थिक मदद पहुंचाने के लिए क्या कदम उठा रही है. कांग्रेस ने केंद्र सरकार से बिंदुवार 7 सवाल पूछे हैं, और इन पर जवाब मांगा है....

कांग्रेस के 7 सवाल ...

1. कोरोना की रोकथाम का एक मात्र रास्ता है- टेस्टिंग. 1 फरवरी से 13 अप्रैल, 2020 तक, यानी 72 दिनों में देश में केवल 2,17,554 कोरोना टेस्ट हुए. औसत 3,021 टेस्ट प्रतिदिन है, टेस्ट कई गुना बढ़ाने की क्या योजना है?

2. कोरोना के खिलाफ अग्रिम पंक्ति के योद्धा डॉक्टर-नर्स-स्वास्थ्यकर्मी-पुलिसकर्मी-सफ़ाई कर्मी हैं. इनके लिए अब तक एन-95 मास्क और पीपीई की ज़बरदस्त कमी है. इस मसले पर आपकी चुप्पी क्यों? यह सुरक्षा कवच कब उपलब्ध होगा?

3. पलायन कर चुके करोड़ों-मजदूर आज रोजगार-रोटी के संकट से जूझ रहे हैं. इस संवेदनशील व मानवीय मसले पर आपका एक्शन प्लान क्या है?

4. लाखों एकड़ गेहूं-रबी की फसलें कटाई के लिए तैयार हैं, लेकिन इंतजाम क्यों नहीं हैं? समय पर कटाई और MSP पर फसल ख़रीद सुनिश्चित करने को लेकर आप चुप क्यों हैं? देश का अन्नदाता और खेती आपकी प्राथमिकता सूची से बाहर क्यों है?

5. कोरोना से पहले ही देश का युवा अभूतपूर्व बेरोजगारी से जूझ रहा था. अब बेरोज़गारी-छंटनी-नौकरियां जाने की दर विकराल रूप ले रही है. आपकी ‘कोविड-19 इकनॉमिक रिकवरी टास्क फ़ोर्स’ कहां गायब है? करोड़ों युवा कहां जाएं?

6. देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़- दुकानदार, लघु और मध्यम उद्योग- आज चौपट होने की कगार पर हैं. खेती के बाद सबसे अधिक रोज़गार इन्हीं क्षेत्रों में है. इन्हें वापस पटरी पर लाने व आर्थिक मदद के बारे आपकी क्या एक्शन प्लान है?

7. पूरी दुनिया ने कोरोना से पैदा हुए आर्थिक संकट से पार पाने हेतु करोड़ों-अरबों रुपये के आर्थिक पैकेज लागू किए. इस सूची में आपकी सरकार आख़िरी पायदान पर क्यों खड़ी है? नीयत और नीति की ये कमी देश को भारी पड़ रही है.

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने भी कहा कि लॉकडाउन बढ़ाने के फैसले का समर्थन है, लेकिन सरकार ने जिन लोगों को अभी क्वारनटीन में रखा है, उनकी समयसीमा खत्म हो रही तो उन्हें वापस घर पहुंचाने की क्या सुविधा है. उनमें से जो लोग पॉजिटिव नहीं हैं, उन्हें स्क्रीनिंग करवा कर कैसे घर भेजा जाएगा. मनीष तिवारी ने सरकार से टेस्टिंग की सुविधा बढ़ाने, किसानों को राहत और मजदूरों को आर्थिक मदद,गरीबों को राशन देने की अपील की गई.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news