माइक्रोसॉफ्ट ने की कर्मचारियों की छंटनी, वैश्विक मंदी के चलते लिया फैसला

आर्थिक मंदी अब बिग टेक कंपनियों तक पहुंच गई है। वहीं सत्या नडेला द्वारा संचालित माइक्रोसॉफ्ट पुनर्गठन के हिस्से के रूप में कर्मचारियों की छंटनी करने वाली पहली टेक दिग्गज बन गई है।
माइक्रोसॉफ्ट ने की कर्मचारियों की छंटनी, वैश्विक मंदी के चलते लिया फैसला

आर्थिक मंदी अब बिग टेक कंपनियों तक पहुंच गई है। वहीं सत्या नडेला द्वारा संचालित माइक्रोसॉफ्ट पुनर्गठन के हिस्से के रूप में कर्मचारियों की छंटनी करने वाली पहली टेक दिग्गज बन गई है।

माइक्रोसॉफ्ट में छंटनी उसके कार्यालयों और प्रोडक्ट डिविजन्स के 1,80,000 कर्मचारियों की लगभग 1 प्रतिशत है।

माइक्रोसॉफ्ट ने मंगलवार देर रात एक बयान में ब्लूमबर्ग को बताया, सभी कंपनियों की तरह, हम नियमित रूप से अपनी व्यावसायिक प्राथमिकताओं का मूल्यांकन करते हैं और तदनुसार स्ट्रक्चु रल एडजेस्टमेंट करते हैं।

कंपनी ने कहा, हम अपने व्यवसाय में निवेश करना जारी रखेंगे और आने वाले वर्ष में कुल मिलाकर कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि करेंगे।

माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज, टीम्स और ऑफिस ग्रुप्स में हायरिंग को भी कम कर दिया है।

माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी तीसरी तिमाही में मजबूत आय दर्ज की, जिसमें क्लाउड राजस्व में 26 प्रतिशत की बढ़त (ऑन-ईयर) और कुल राजस्व 49.4 बिलियन डॉलर था।

हालांकि, पिछले महीने, कंपनी ने अपने चौथी तिमाही में राजस्व और आय मार्गदर्शन को नीचे की ओर संशोधित किया।

ट्विटर ने भी अपनी भर्ती टीम में 30 प्रतिशत की कटौती की है, जबकि एलन मस्क द्वारा संचालित टेस्ला सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी कर रही है।

जिन अन्य टेक कंपनियों ने हायरिंग को धीमा किया है, उनमें एनवीडिया, स्नैप, उबर, स्पॉटिफाई, इंटेल और सेल्सफोर्स शामिल हैं।

मीडिया ने बताया कि क्लाउड प्रमुख ओरेकल ने हाल ही में लागत में कटौती के उपायों में 1 बिलियन डॉलर तक बचाने के लिए हजारों कर्मचारियों की छंटनी करने पर विचार किया है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news