किसानों के साथ अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता दिखाए मोदी सरकार : कांग्रेस

गौरव वल्लभ ने कहा कि, "अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने महात्मा गांधी के बारे में हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी को उनके अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता के संदेश को याद दिलाया। जिसका अनुसरण प्रधानमंत्री मोदी को भी करना चाहिए।"
किसानों के साथ अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता दिखाए मोदी सरकार : कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री मोदी से किसानों के साथ अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता दिखाने की अपील की है। कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों की मंडी बंद करने का फैसला किया है इसलिए पार्टी आगामी भारतबंद में देशव्यापी सहयोग करेगी। कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने शनिवार को प्रेसवार्ता कर कहा, "देश के प्रधानमंत्री को विदेशी धरती पर जो पाठ पढ़ाया गया। उनको सकारात्मक तरीके से लेना चाहिए। अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा कि दुनियाभर में लोकतंत्र खतरे में है और यदि भारत को इस स्थिति को सुधारना है तो उसको साथ आना होगा। इसका कारण ये है कि एक स्वतंत्र रेटिंग एजेंसी फ्रीडम हाउस के सर्वे के अनुसार भारत देश में आंशिकतौर पर ही लोकतंत्र है। इसी तरह स्वीडन की एजेंसी वीडैम के मुताबिक भारत की लोकतंत्र व्यवस्था चुने हुए निरंकुश शासन में तबदील हो गई है।"

गौरव वल्लभ ने कहा कि, "अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने महात्मा गांधी के बारे में हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी को उनके अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता के संदेश को याद दिलाया। जिसका अनुसरण प्रधानमंत्री मोदी को भी करना चाहिए।"

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, "सिलसिलेवार तरीके से देश के किसानों को मुश्किल में ड़ाला गया। पहले 2015 में बीजेपी सरकार ने भूमि अधिग्रहण बिल लाकर किसानों की जमीनों को लिया। फिर 2016-17 में किसानों के बजट के एक बड़े हिस्से को फसल-बीमा के नाम पर प्राइवेट कम्पनियों के नाम कर दिया गया। उसके बाद देश में वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के नाम पर आजाद भारत में पहली बार किसानों पर, कृषि पर, टैक्स लगाया गया। ट्रैक्टर, बीज, खेती के सामान पर 12 से 18 प्रतिशत जीएसटी लगाई गई।"

उन्होंने कहा, "पिछले सात साल में पेट्रोल-डीजल के दाम लगभग दोगुना बढ़ाए गए फिर तीन कृषि कानून लेकर किसानों की मुश्किल बढ़ा दी गई। एक अध्ययन के मुताबिक किसानों की खेती लागत में 25 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर की बढ़ोतरी हुई है। इसका नतीजा ये हुआ कि साल 2018-19 में भारत सरकार के आंकड़े के अनुसार देश का किसान मात्र 27 रुपये प्रतिदिन कमा रहा है। जहां साल 2012-13 में किसान की आय 48 फीसदी थी वो मात्र 38 प्रतिशत रह गई। प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था। पांच महीने बाद फरवरी 2022 में वो दिन आने वाला है। गुजरात के मुख्यमंत्री रहते प्रधानमंत्री मोदी ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को किसानों का लीगल राइट बताया था।"

वहीं कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने भी अमेरिक के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी की मुलाकात के बीच गांधी जी को याद किये जाने पर ट्वीट कर कहा, "बाइडेन ने मोदी जी को याद दिलाया महात्मा गांधी का पैगाम और सिद्धांत। अहिंसा और सहिष्णुता को याद रखना जरूरी है।"

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news