मोदी कोविड पर चर्चा के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्रियों के साथ करेंगे बैठक

मोदी कोविड पर चर्चा के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्रियों के साथ करेंगे बैठक

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना की स्थिति पर चर्चा के लिए गुरुवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। बैठक शाम 6:30 बजे आयोजित की जाएगी।

भारत में एक बार फिर कोरोनावायरस तेजी से पैर पसार रहा है। भारत ने दैनिक तौर पर सामने आने वाले कोरोना मामलों की संख्या में ब्राजील और संयुक्त राज्य अमेरिका को भी पीछे छोड़ दिया है और वह दुनिया में सर्वोच्च स्थान पर पहुंच चुका है।

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना की स्थिति पर चर्चा के लिए गुरुवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। बैठक शाम 6:30 बजे आयोजित की जाएगी।

इस बैठक में प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से टीकाकरण से संबंधित मुद्दों के साथ-साथ देशभर में कोविड-19 महामारी की वर्तमान स्थिति और महामारी की दूसरी लहर पर अंकुश लगाने के उपायों पर चर्चा करेंगे।

यह बैठक पिछले 24 घंटों में 1,03,558 नए कोरोनावायरस मामलों की पृष्ठभूमि में आयोजित हो रही है, जो पिछले साल महामारी की शुरुआत के बाद से अब तक का सबसे अधिक एकल-दिवसीय वृद्धि है। नए मामलों के बाद सोमवार को भारत में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 1,25,89867 पहुंच चुकी है।

देश में कोविड-19 मामलों और मृत्युदर में हुई वृद्धि के बाद स्थिति चिताजनक हो चुकी है। देश के 10 राज्यों में 91 प्रतिशत से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री ने रविवार को भी एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की थी और कोरोना पर लगाम कसने को लेकर निर्देश दिए थे।

उन्होंने ऐसे सभी राज्यों और इलाकों में व्यापक प्रतिबंधों के साथ आवश्यक कड़े कदम उठाने का आह्वान किया था, जहां स्थिति अधिक खराब है।

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ 17 मार्च को एक बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा था कि भारत को कोविड-19 संक्रमणों की एक दूसरी लहर को रोकने के लिए जल्द ही त्वरित और निर्णायक कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि दैनिक निगरानी होनी चाहिए।

महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, केरल, छत्तीसगढ़, चंडीगढ़, गुजरात, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, दिल्ली और हरियाणा को गंभीर चिंता वाले राज्य माना गया है।

वर्तमान में सक्रिय मामले बढ़कर 7,41,830 हो गए हैं, जो कि कुल संक्रमण का 5.89 प्रतिशत है, जबकि रिकवरी रेट अब घटकर 92.80 प्रतिशत हो गई है।

सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोरोना की वजह से 478 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है, जिसके बाद देश में संक्रमण की वजह से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या 1,65,101 हो गई है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, इस बीमारी से उबरने वालों की संख्या बढ़कर 1,16,82,136 हो गई है, जबकि मामलों में मृत्युदर 1.31 प्रतिशत है।

केंद्र कोरोना के लिए अधिक संवेदनशील राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लगातार बढ़ रहे संक्रमण पर रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाने की सलाह दी है।

16 जनवरी को टीकाकरण शुरू होने के बाद से देश में अब तक 7.91 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news