देश में मानसून ने दी दस्तक, इस हफ्ते इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना...
ताज़ातरीन

देश में मानसून ने दी दस्तक, इस हफ्ते इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना...

देश के सभी राज्यों में भारी वर्षा के अनुमान लगाए जा रहे हैं. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार मानसून का कम दवाब वाला क्षेत्र हिमालय की तलहटी से उत्तर की ओर बढ़ रहा है, जिससे 20 सेंटीमीटर से भी ज्यादा की बारिश होने की संभावना है.

Yoyocial News

Yoyocial News

देश में मानसून ने दस्तक दे दी है. सभी राज्यों में भारी वर्षा के अनुमान लगाए जा रहे हैं. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार मानसून का कम दवाब वाला क्षेत्र हिमालय की तलहटी से उत्तर की ओर बढ़ रहा है, जिससे 20 सेंटीमीटर से भी ज्यादा की बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग का कहना है कि मानसून के घुमते रहने के साथ भी सक्रिय मानसून वर्षा 14-16 जुलाई उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में हो सकती है.

मानसून के कम दवाब वाले क्षेत्र का पश्चिमी छोर मौजूदा समय में गंगानगर, दिल्ली, बरेली से होकर गुजर रहा है, जबकि पूर्वीय छोर के कारण हिमालय की तलहटी में लगातार बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने संभावना जताते हुए कहा कि बिहार के पूर्व और आस-पास के इलाकों में साइक्लोनिक घुमाव बन रहा है, जो अगले दो दिनों में पूर्वी भारत में आ जाएगा. 

अगले पांच दिनों में उत्तर प्रदेश के पूर्वी इलाके, उत्तर-पूर्वीय भारत, पश्तिम बंगाल, सिक्किम और बिहार में भारी बारिश होने की संभावना है लेकिन पिछले हफ्ते की तुलना में बारिश की तीव्रता इस हफ्ते कम होने की संभावना है. अगले 12 घंटों में उत्तर प्रदेश और बिहार के कई इलाकों में सामान्य से गंभीर आंधी और बिजली देखी जा सकती है. 

इसके अलावा अगले 24 घंटों में अरुणाचल प्रदेश और असम में आई बाढ़ का पानी भी कम हो जाएगा. मानसून का पश्चिमी छोर दिल्ली की ओर बढ़ रहा है, इसलिए रविवार को दिल्ली के कई इलाकों में बारिश औ र बिजली देखी जा सकती है. क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के हेड कुलदीप श्रीवास्तव का कहना है कि क्योंकि मानसून दक्षिण की तरफ बढ़ रहा है, इसलिए दिल्ली में बारिश पड़ सकती है. 

केंद्रीय पानी कमीशन के अनुसार 11 जुलाई को 30 स्टेशन जिसमें एक अरुणाचल प्रदेश, 14 असम, एक पश्चिम बंगाल, दस बिहार और चार यूपी के शामिल हैं, बाढ़ की वजह से धाराप्रवाह स्थिति में थे और 20 स्टेशन (नौ असम में, पांच बिहार में, तीन यूपी में, तीन पश्चिम बंगाल में, एक दमन और द्वीप में और एक अरुणाचल प्रदेश में) सामान्य बाढ़ की स्थिति से ज्यादा पानी थी.

इस मानसून देश में 14 फीसदी ज्यादा बारिश पड़ी है, मध्य भारत में 20 फीसदी ज्यादा, 16 फीसदी दक्षिण पेनिनसुला, पूर्वी और उत्तर-पूर्वी भारत में 14 फीसदी ज्यादा बारिश पड़ी है. इसके अलावा उत्तर पश्चिम भारत में तीन फीसदी कम बारिश पड़ी है.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news