MSN लैब्स ने दवा लॉन्च करने को कंपनी एली लिली के साथ किया करार

एमएसएन लैब्स ने गुरुवार को घोषणा की कि उसने भारत में कोविड के लिए बारीसिटीनिब दवा के निर्माण और विपणन के लिए अमेरिका की कंपनी एली लिली के साथ रॉयल्टी मुक्त, गैर-विशिष्ट, स्वैच्छिक लाइसेंस समझौता किया है।
MSN लैब्स ने दवा लॉन्च करने को कंपनी एली लिली के साथ किया करार

एमएसएन लैब्स ने गुरुवार को घोषणा की कि उसने भारत में कोविड के लिए बारीसिटीनिब दवा के निर्माण और विपणन के लिए अमेरिका की कंपनी एली लिली के साथ रॉयल्टी मुक्त, गैर-विशिष्ट, स्वैच्छिक लाइसेंस समझौता किया है।

बारीसिटीनिब दवा को केंद्रीय ड्रग्स मानक नियंत्रण संगठन द्वारा भारत में प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी गई है।

इसका आपातकालीन उपयोग रेमडेसिविर के साथ संदिग्ध मरीजों या अस्पताल में भर्ती उन वयस्क कोविड-19 मरीजों के लिए किया जाएगा, जिन्हें पूरक ऑक्सीजन, यांत्रिक वेंटिलेशन या एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन (ईसीएमओ) की जरूरत पड़ती है।

एमएसएन ग्रुप के सीएमडी डॉ. एमएसएन रेड्डी ने कहा, "एली लिली एंड कंपनी के साथ यह करार कोविड -19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में एक मील का पत्थर है।"

एमएसएन 'बारीडोज' ब्रांड नाम से 2 एमजी और 4 एमजी ताकत वाले इस उत्पाद का निर्माण शुरू करेगा। एमएसएन ने अपने यहां के आरएंडडी और विनिर्माण इकाइयों में सक्रिय फार्मास्युटिकल अवयव और बारीसिटीनिब के निर्माण की तकनीक विकसित की है।

एमएसएन कोविड उपचार रेंज के हिस्से के रूप में, पहले ही 200, 400 और 800 एमजी ताकत में फैविलो (फैविपाइरैविर) और 75 एमजी ताकत वाला ओसेलो (ओसेल्टैमिविर) कैप्सूल लॉन्च कर चुकी है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news