नवजोत सिंह सिद्धू ने तोड़ी चुप्पी, किया Tweet 'अपने खिलाफ बातें मैं अक्सर खामोशी से सुनता हूं..'

बीते दो दिनों से इस मामले में सिद्धू मीडिया को भी जवाब देने से आनाकानी कर रहे थे. जबकि आज बुधवार को उन्होंने ट्वीट कर इस मामले में संकेत दिए है कि वह वक्त आने पर इसका जवाब देंगे.
नवजोत सिंह सिद्धू ने तोड़ी चुप्पी, किया Tweet 'अपने खिलाफ बातें मैं अक्सर खामोशी से सुनता हूं..'

कांग्रेस के पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश चौधरी द्वारा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर प्रदेश इकाई के पूर्व प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग के बाद सिद्धू ने इस संदर्भ में एक ट्वीट कर अपनी चुप्पी तोड़ी है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “अपने खिलाफ बातें मैं अक्सर खामोशी से सुनता हूं . . . जवाब देने का हक , मैंने वक़्त को दे रखा है” . . .जाहिर है कि उन्होंने यह ट्वीट अपने खिलाफ कांग्रेस हाईकमान द्वारा संभावित अनुशासनात्मक कार्रवाई को लेकर किया है.

बीते दो दिनों से इस मामले में सिद्धू मीडिया को भी जवाब देने से आनाकानी कर रहे थे. जबकि आज बुधवार को उन्होंने ट्वीट कर इस मामले में संकेत दिए है कि वह वक्त आने पर इसका जवाब देंगे.

पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश चौधरी का आरोप है कि सिद्धू के खुद को पार्टी से ऊपर दिखाने की कोशिश करते हैं. इस मामले में 23 अप्रैल का पत्र सोमवार को सामने आया था.

इस पत्र के साथ चौधरी ने सिद्धू की वर्तमान गतिविधियों के बारे में पार्टी की पंजाब इकाई के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग का एक विस्तृत नोट भी भेजा है.

चौधरी ने पत्र में लिखा है कि सिद्धू ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की लगातार आलोचना की, जबकि उन्हें ऐसा करने से मना किया गया था. उन्होंने कहा, अध्यक्ष महोदय, सिद्धू को स्वयं को पार्टी से ऊपर दिखाने और पार्टी अनुशासन भंग करने के संबंध में दूसरों के लिये उदाहरण बनने की अनुमति नहीं दी जा सकती.

गौरतलब है कि चुनावों में हार के बाद सिद्धू अपनी ही पार्टी के नेताओं की ईमानदारी को लेकर लगातार सवाल करते हैं. यहां तक कि वह यह कह चुके हैं कि कांग्रेस सरकार के दौरान भ्रष्टाचार था इसलिए कांग्रेस को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा.

इसके अलावा सिद्धू कभी भी अपनी ही पार्टी के खिलाफ मार्चा खोलने से भी अब गुरेज नहीं करते हैं.

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news