ईडी ने हथियार सौदे के बिचौलिये पर मनी लॉन्ड्रिंग का नया केस दर्ज किया, हैदराबाद में GVK ग्रुप की ली तलाशी
ताज़ातरीन

ईडी ने हथियार सौदे के बिचौलिये पर मनी लॉन्ड्रिंग का नया केस दर्ज किया, हैदराबाद में GVK ग्रुप की ली तलाशी

अधिकारियों ने बताया कि सैमसंग ने नियम को ताक पर रख कर भंडारी की कंपनी को दलाली के पैसे दिए और बदले में अधिकारियों को प्रभावित कर 6,744 करोड़ रुपये का ठेका हथियाया लिया।

Yoyocial News

Yoyocial News

प्रवर्तन निदेशालय ने हथियार सौदे के बिचौलिये संजय भंडारी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का नया केस दर्ज किया है। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि दरअसल दक्षिण कोरिया की सैमसंग इंजीनियरिंग कंपनी लि. से कथित रूप से 49.9 लाख डॉलर की दलाली लेने के मामले की ईडी जांच करेगा।

उन्होंने बताया कि सैमसंग ने नियम को ताक पर रख कर भंडारी की कंपनी को दलाली के पैसे दिए और बदले में अधिकारियों को प्रभावित कर 6,744 करोड़ रुपये का ठेका हथियाया लिया। इसके जरिये कंपनी ने गुजरात में ओएनजीसी पेट्रो एडिशंस लि. (ओपल) के सहयोग से उद्योग शुरू किया। ओपल को कुछ सरकारी तेल कंपनियों का सहयोग है।

उन्होंने बताया कि ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून के तहत ईसीआईआर दर्ज की है। विदेशों में अघोषित संपत्ति रखने और अन्य मामलों में 2017 में केस दर्ज होने के बाद भंडारी के खिलाफ यह दूसरा केस है। एजेंसी जून में एक चार्जशीट दायर कर चुकी है। ईडी ने कहा था कि भंडारी ने पहली जांच में सहयोग नहीं किया और देश से भाग गया। बताया जाता है कि वह ब्रिटेन या उसके आसपास किसी देश में है।

उधर, मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) मामले से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग जांच के सिलसिले में मंगलवार को जीवीके ग्रुप के खिलाफ हैदराबाद में तलाशी ली है। ईडी की टीमें मुंबई और अन्य जगहों के अलावा, हैदराबाद में तीन स्थानों पर तलाशी ले रही हैं। ईडी ने मुंबई हवाईअड्डे के संचालन में 705 करोड़ रुपये की कथित अनियमितताओं की जांच के लिए 12 जुलाई को जीवीके समूह, एमआईएएल और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग (धन शोधन) का मामला दर्ज किया था।

इस महीने की शुरआत में सीबीआई ने मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हावईअड्डे के रखरखाव, संचालन मामले में 705 करोड़ रुपये की अनयिमितता के संबंध में जीवीके के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इसने जीवीके होल्डिंग्स, इसके संस्थापक गणपति वेंकट कृष्णा रेड्डी, उनके बेटे व एमआईएएल के प्रबंध निदेशक वेंकट संजय रेड्डी सहित आठ अन्य व्यक्तियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

एमआईएएल अन्य निवेशकों के अलावा जीवीके एयरपोर्ट होल्डिंग्स लिमिटेड और एएआई के बीच सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के तहत एक संयुक्त उद्यम है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news