symbolic photo
symbolic photo
ताज़ातरीन

लॉकडाउन में बॉर्डर पर ही पढ़ा गया निकाह, पुलिस बनी 'गवाह', ऑनलाइन शादियों की धूम

उत्तराखंड के टिहरी में कोठी कालोनी के मो. फैसल का निकाह उप्र में बिजनौर के नगीना की आयशा से बुधवार को होना तय हुआ था. आयशा के परिजन ने बताया कि बारात बुधवार को आनी थी, मगर लॉकडाउन के कारण दूल्हा पक्ष को उत्तर प्रदेश में आने की इजाजत नहीं मिल सकी.

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना वायरस संक्रमण को काबू करने के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से जब दूल्हा-दुल्हन को एक-दूसरे के राज्य जाने की अनुमति नहीं मिली, तो उन्होंने अपने-अपने राज्यों के बॉर्डर पर ही निकाह कर एक-दूसरे को कबूल किया.

उत्तराखंड के टिहरी में कोठी कालोनी के मोहम्मद फैसल का निकाह उत्तर प्रदेश में बिजनौर के नगीना की आयशा से बुधवार को होना तय हुआ था. आयशा के परिजन ने बताया कि बारात बुधवार को आनी थी, मगर लॉकडाउन के कारण दूल्हा पक्ष को उत्तर प्रदेश में आने की इजाजत नहीं मिल सकी.

उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष तय की गयी तारीख पर ही निकाह करना चाहते थे, इसलिए प्रशासन से इजाजत लेकर दोनों राज्यों की सीमा पर निकाह पढ़ाया गया. उन्होंने बताया कि इस दौरान दोनों राज्यों की पुलिस भी मौजूद रही.

गौरतलब है कि देश में लॉकडाउन को देखते हुए कई जोड़ों ने अपने विवाह की तारीख को आगे बढ़ा दिया. लेकिन कुछ जोड़े ऐसे भी रहे, जो इस लॉकडाउन का तोड़ निकालकर एक दूजे के हो गए. दरअसल लॉकडाउन के बीच इन जोड़ों ने ऑनलाइन विवाह किया. इसमें मेहंदी, संगीत सभी रस्में ऑनलाइन की गईं. लोगों को ऑनलाइन ही आमंत्रित किया गया.

शादी कराने वाले पंडित ने भी ऑनलाइन मंत्रों का उच्चारण किया. लॉकडाउन के नियमों को न तोड़ा जाए, इसके लिए ऑनलाइन शादी रचाई गई. मध्य प्रदेश के अविनाश ने कहा कि हमने सतना में धूमधाम से शादी करने की योजना बनाई थई, जिसमें 8000 से अधिक मेहमानों के आने की उम्मीद थी.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news