कृषि कानूनों के विरोध में सिंघु पर रोडब्लॉक होने से नर्सरी व्यवसाय प्रभावित

कृषि कानूनों के विरोध में सिंघु पर रोडब्लॉक होने से नर्सरी व्यवसाय प्रभावित

कोविड-19 महामारी के कारण महीनों के लॉकडाउन के बाद 35 वर्षीय मंजूर आलम अपने पौधों की नर्सरी में ग्राहकों के आने की उम्मीद कर रहे थे, हालांकि, सिंघु सीमा पर किसानों के विरोध प्रदर्शन ने उनके इंतजार को लंबा कर दिया।

कोविड-19 महामारी के कारण महीनों के लॉकडाउन के बाद 35 वर्षीय मंजूर आलम अपने पौधों की नर्सरी में ग्राहकों के आने की उम्मीद कर रहे थे, हालांकि, सिंघु सीमा पर किसानों के विरोध प्रदर्शन ने उनके इंतजार को लंबा कर दिया और यह विरोध उनके लिए परेशानी का सबब बन गया।

पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना के रहने वाले आलम ने कहा कि वह नवंबर से अपने व्यवसाय के बढ़ने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन किसानों के विरोध के कारण दिल्ली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध हो गया।

अपनी नर्सरी की ओर इशारा करते हुए, आलम ने कहा, "लॉकडाउन के दौरान, व्यापार पूरी तरह से बंद था और हम उम्मीद कर रहे थे कि नवंबर से पौधों और फूलों की बिक्री शुरू हो जाएगी, लेकिन किसानों का विरोध बाधा बन गया है। हम पश्चिम बंगाल या पुणे से फूलों और पौधों के बीज लाते हैं और उन्हें यहां उगाते हैं।"

उन्होंने कहा, "यहां किसानों का विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद से एक भी पौधा नहीं बिका है। नर्सरी के रखरखाव के लिए प्रति माह लगभग 40,000 - 45,000 रुपये लगते हैं, जिसमें बागवानी, बिजली और कई अन्य खर्चे हैं। पौधे बिकने के लिए तैयार हैं, क्योंकि अगस्त से अक्टूबर तक पौधों के बढ़ने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है और नवंबर से पौधे बिक्री के लिए तैयार हो जाते हैं।"

उन्होंने कहा कि 1984 में सिंघु गांव में उनके पिता द्वारा प्लांट नर्सरी स्थापित की गई थी, जो सड़क के किनारे स्थित है जहां किसान केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में धरने पर बैठे हैं।

आलम ने कहा, "हम प्रति माह पौधे बेचकर 1 लाख से 1.50 लाख रुपये की कमाई कर लेते थे, लेकिन इस साल हमें अभी तक एक भी ग्राहक नहीं मिला है। मुझे नहीं पता कि यह कब तक चलेगा और हमें कब तक धंधा फिर से शुरू करने के लिए इंतजार करना होगा।"

Keep up with what Is Happening!

AD
No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news