भाजपा नेता संबित पात्रा के काफिले पर हमला, NSUI कार्यकर्ताओं पर है आरोप

दरअसल एएसआई ने हाई कोर्ट में जवाब दाखिल करते हुए कहा है कि जगन्नाथ मंदिर के 100 मीटर के दायरे में किसी भी तरह की खुदाई कार्य करने की परमिशन नहीं दी गई है। पात्रा ने भी राज्य सरकार के निर्माण की निंदा की और इसी का विरोध करने वह पुरी पहुंचे थे।
भाजपा नेता संबित पात्रा के काफिले पर हमला, NSUI कार्यकर्ताओं पर है आरोप

ओडिशा के पुरी में हेरिटेज प्रोजेक्ट का विरोध करने पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा की कार पर NSUI कार्यकर्ता ने स्याही फेंक दी। वह झाड़ेश्वरी छाक के पास से गुजर रहे थे तभी भीड़ में से एक शख्स ने उनकी कार पर स्याही फेंकी। संबित पात्रा ने कहा, मैंने उन्हें माफ कर दिया है। कांग्रेस पार्टी के पास न तो कोई नेता है और न ही लोगों की सेवा करने का जुनून। इसिलए मैं उन्हें माफ करता हूं।

दरअसल एएसआई ने हाई कोर्ट में जवाब दाखिल करते हुए कहा है कि जगन्नाथ मंदिर के 100 मीटर के दायरे में किसी भी तरह की खुदाई या निर्माम कार्य करने की परमिशन नहीं दी गई है। पात्रा ने भी राज्य सरकार के निर्माण की निंदा की और इसी का विरोध करने वह पुरी पहुंचे थे।

भाजपा नेता पुरी से वापस आ रहे थे तभी रास्ते में उनकी कार पर स्याही फेंकी गई और काले झंडे दिखाए गए। उधर एसडीजेएम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि पुरी के कलेक्टर, ओडिशा ब्रिज ऐंड कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरशन और टाटा प्रोजेक्ट्स के खिलाफ केस दर्ज किया जाए। बिभूति शंकर त्रिपाठी कीयाचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह निर्देश दिया था और सुनवाई 11 मई तक टाली थी।

इससे पहले त्रिपाठी जो कि पुरी बार असोसिएशन के सेक्रटरी हैं, अपनी शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंचे थे। उन्होंने कहा था कि प्रतिबंधित क्षेत्र में मंदिर के पास निर्माण किया जा रहा है जो कि अवैध है और बिना एएसआई की परमिशन लिए ऐसा किया जा रहा है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.