आंध्र प्रदेश: आज से शुरू होगा कुरनूल एयरपोर्ट पर संचालन, पहले दिन 260 यात्री भरेंगे उड़ान

आंध्र प्रदेश: आज से शुरू होगा कुरनूल एयरपोर्ट पर संचालन, पहले दिन 260 यात्री भरेंगे उड़ान

आंध्र प्रदेश में कुरनूल के पास ओरवकल स्थित नया उयालवाड़ा नरसिम्हा रेड्डी हवाई अड्डा परिचालन के लिए तैयार है। यहां रविवार को कम से कम 260 यात्री इस हवाई अड्डे से यात्रा करेंगे।

आंध्र प्रदेश में कुरनूल के पास ओरवकल स्थित नया उयालवाड़ा नरसिम्हा रेड्डी हवाई अड्डा परिचालन के लिए तैयार है। यहां रविवार को कम से कम 260 यात्री इस हवाई अड्डे से यात्रा करेंगे, जिनमें यहां से जाने और आने वाले यात्री शामिल हैं। नए स्थापित हवाई अड्डे से नियमित वाणिज्यिक उड़ान संचालन रविवार से शुरू होने वाला है।

इंडिगो रविवार से रायलसीमा के हवाई अड्डे से बेंगलुरू, विशाखापत्तनम और चेन्नई के लिए उड़ानें शुरू करेगी।

तीनों गंतव्यों के लिए सीधी फ्लाइट, क्षेत्रीय संपर्क योजना (आरसीएस) उड़ान के तहत संचालित की जाएगी।

बेंगलुरू से कुरनूल हवाई अड्डे तक 52 यात्रियों के पहुंचने की संभावना है, जिनके आइडेंटिफिकेशन कोड को केजेबी के रूप में नामित किया गया है।

इसी तरह, कुरनूल हवाई अड्डे से विशाखापत्तनम तक 66 यात्री उड़ान भरेंगे, जबकि नवनिर्मित उयालवाड़ा नरसिम्हा रेड्डी हवाई अड्डे से विशाखापत्तनम जाने के लिए 31 यात्रियों ने अपने टिकट बुक कराए हैं।

इसी तरह, पड़ोसी राज्य कर्नाटक की बात करें तो कुरनूल हवाई अड्डे से इसकी राजधानी बेंगलुरू हवाई अड्डे तक 63 यात्रियों की ओर से उड़ान भरे जाने की उम्मीद है।

वहीं तमिलनाडु के चेन्नई से कुरनूल तक 16 यात्रियों के उड़ान भरने की उम्मीद है।

इसके अलावा 32 यात्री कुरनूल से चेन्नई लौटेंगे।

कुरनूल से उड़ानें पर्यटकों के लिए और साथ ही न्यायिक राजधानी की यात्रा करने वाले सरकारी अधिकारियों तक पहुंच को बढ़ाएंगी।

नए स्थापित हवाई संपर्क के साथ प्रसिद्ध मंदिर जैसे अहोबिलम और मन्त्रालयम के साथ-साथ नल्लामाला वन, बेलम गुफाएं और अन्य प्रसिद्द जगहें पर्यटकों को और भी आकर्षित करेंगी।

इसके संचालन के बाद कुरनूल राज्य की कनेक्टिविटी और बुनियादी ढांचे में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा, क्योंकि यह आगामी हैदराबाद - बेंगलुरू औद्योगिक गलियारे को लेकर भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला है।

दक्षिणी राज्य के मुख्यमंत्री ने राजधानी को तीन शहरों में बांटने का फैसला किया है, जिसमें कुरनूल भी शामिल है। कुरनूल में न्यायिक राजधानी स्थापित करने की योजना बनाई गई है, जबकि अमरावती को विधायी राजधानी और विशाखापत्तनम को कार्यकारी राजधानी के तौर पर जाना जाएगा।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news