प्रधानमंत्री को लोगों की जिंदगी बचाने के लिए संवैधानिक कर्तव्यों को निभाना चाहिए : ओवैसी

देश में कोरोना की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए, एमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने नागरिकों की जान बचाने के उनके संवैधानिक कर्तव्य को निभाने की मांग की है।
प्रधानमंत्री को लोगों की जिंदगी बचाने के लिए संवैधानिक कर्तव्यों को निभाना चाहिए : ओवैसी

देश में कोरोना की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए, एमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने नागरिकों की जान बचाने के उनके संवैधानिक कर्तव्य को निभाने की मांग की है।

यह आरोप लगाते हुए कि आठ महीनों के लिए, मोदी के नेतृत्व वाली सरकार गहरी नींद में थी, जिसके कारण दूसरी लहर आई, जिससे हजारों लोगों की जान चली गई। भाजपा सरकार ने कुछ नहीं किया, जबकि सभी विशेषज्ञों ने एक दूसरी लहर की चेतावनी दी थी।

मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) प्रमुख एक्सेस फाउंडेशन के सहयोग से मजलिस चैरिटी एजुकेशनल एंड रिलीफ ट्रस्ट द्वारा स्थापित कोविड -19 हेल्पलाइन शुरू करने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।

ओवैसी ने कहा, संविधान के तहत जीवन का अधिकार एक मौलिक अधिकार है और मांग करते हुए कहा कि मोदी भारत के लोगों के जीवन को बचाने के लिए अपने संवैधानिक कर्तव्य पर खरा उतरें।

ओवैसी ने कहा कि अब परिस्थिति सरकार के हाथ से निकल चुकी है। उन्होंने कहा, "आपको(मोदी को) निश्चित ही उठना चाहिए। आप लोगों को इमोशनल ब्लैकमेल नहीं कर सकते। जमीन पर कुछ नहीं हो रहा है।"

इस सरकार के पास कोई विजन, कोई योजना, कोई जवाबदेही या पारदर्शिता नहीं है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news