प्रयागराज में बाढ़ का खतरा, गंगा नदी में छोड़ा गया साढ़े 3 लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी
ताज़ातरीन

प्रयागराज में बाढ़ का खतरा, गंगा नदी में छोड़ा गया साढ़े 3 लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी

मध्य प्रदेश से आने वाली नदियां उफान पर हैं। इससे यमुना नदी के जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी की संभावना है।

Yoyocial News

Yoyocial News

यूपी के प्रयागराज में बाढ़ का संकट मंडरा रहा है। बुधवार को गंगा के जलस्तर में कुछ कमी दिखी तो यमुना के जलस्तर में भी गिरावट दर्ज की गई। वहीं, इससे निचले इलाकों के लोगों को राहत जरूर महसूस की मगर, बाढ़ का खतरा अभी टला नहीं है। बता दें मध्य प्रदेश से आने वाली नदियां उफान पर हैं। इससे यमुना नदी के जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी की संभावना है।

उधर, अलग-अलग स्थानों से गंगा नदी में भी साढ़े 3 लाख क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया है। इससे गंगा के जल स्तर में बढ़ोतरी तय मानी जा रही है। इसका प्रभाव शाम को दिखने भी लगा था। रात 08:00 बजे के आसपास गंगा के जल स्तर में छतनाग में प्रति घंटा 3 सेमी की रफ्तार से बढ़ोतरी शुरू हो गई थी। वहीं यमुना के जल स्तर में कमी की रफ्तार भी धीमी हो गई थी।

सिंचाई विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार दिन में दोनों नदियों के जलस्तर में प्रति घंटा 4 सेमी की कमी दर्ज की गई। हालांकि। यह क्रम सिर्फ शाम तक चला। इससे निचले इलाकों में घुसा पानी वापस होने लगा लेकिन दोनों नदियों में पीछे अधिक मात्रा में पानी छोड़ा गया है। मध्य प्रदेश में लगातार बारिश जारी है। वहां की नदियों में लगातार पानी छोड़ा जा रहा है, जो यमुना में मिल रही हैं।

केन, बेतवा, चंबल में तेज बहाव का असर यहां भी यमुना में बृहस्पतिवार को दिखने की बात कही जा रही है। सिंचाई बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता बृजेश कुमार सिंह का कहना है कि बृहस्पतिवार शाम से यमुना में पानी बढ़ेगा। हालांकि इसका प्रभाव बुधवार शाम को ही दिखने लगा तथा जलस्तर में गिरावट मात्र 2 सेमी प्रति घंटा रह गई थी।

इसके अलावा गंगा में हरिद्वार, नरौरा, कानपुर बैराज से साढ़े 3 लाख क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया है। इसमें कानपुर बैराज से ही 2.59 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है जिसका सीधा प्रभाव यहां पड़ेगा। इसका परिणाम शाम को दिखने लगा था। छतनाग में गंगा का जलस्तर 3 सेमी प्रति घंटा की गति से बढ़ रहा था। वहीं, फाफामऊ में गंगा स्थिर हो गई थीं। ऐसे में एक-दो दिनों में दोनों नदियों के जलस्तर में तेज बढ़ोतरी की संभावना है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news