राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने प्रदान किए राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शुक्रवार को वर्चुअल समारोह के दौरान वर्ष 2019-20 के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार 42 व्यक्तियों व संस्थानों को प्रदान किए।
राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने प्रदान किए राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शुक्रवार को वर्चुअल समारोह के दौरान वर्ष 2019-20 के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार 42 व्यक्तियों व संस्थानों को प्रदान किए।

राष्ट्रपति द्वारा कुल 30 स्वयंसेवकों, 10 कार्यक्रम अधिकारियों/एनएसएस इकाइयों और दो विश्वविद्यालयों और परिषदों को सम्मानित किया गया।

इस तथ्य की ओर इशारा करते हुए कि राष्ट्रीय सेवा योजना की स्थापना 1969 में महात्मा गांधी की जन्मशती के अवसर पर की गई थी, राष्ट्रपति ने कहा, "हमारे युवाओं को जिम्मेदार नागरिक होना चाहिए और खुद को पहचानना चाहिए। गांधीजी के अनुसार 'स्वयं को जानने का सबसे अच्छा तरीका दूसरों की सेवा में खुद को समर्पित करना है।' गांधीजी के आदर्श और सेवा की भावना आज भी हम सभी के लिए प्रासंगिक और प्रेरणादायक है।"

राष्ट्रपति भवन से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि राष्ट्रपति ने कहा, "कोविड-19 के शुरुआती प्रकोप के दौरान, मास्क का बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू होने तक, एनएसएस द्वारा 2 करोड़ 30 लाख से अधिक मास्क बनाए गए और देश के विभिन्न हिस्सों में वितरित किए गए।"

उन्होंने यह भी कहा कि एनएसएस स्वयंसेवकों ने हेल्पलाइन के माध्यम से लोगों को कोविड से संबंधित जानकारी प्रदान की और साथ ही जिला प्रशासन को जागरूकता और राहत गतिविधियों में भी मदद की।

राष्ट्रीय सेवा योजना के रजत जयंती वर्ष के अवसर पर 1993-94 में युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा एनएसएस पुरस्कारों की स्थापना की गई थी।

इन पुरस्कारों का उद्देश्य विश्वविद्यालयों/कॉलेजों, (प्लस 2) परिषदों और वरिष्ठ माध्यमिक, एनएसएस इकाइयों/कार्यक्रम अधिकारियों और एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा किए गए स्वैच्छिक सामुदायिक सेवा के लिए उत्कृष्ट योगदान को पहचानना और पुरस्कृत करना है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.