किसान आंदोलन : करनाल में पुलिस का किसानों पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले, खट्टर का कार्यक्रम रद्द

किसान आंदोलन : करनाल में पुलिस का किसानों पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले, खट्टर का कार्यक्रम रद्द

कैमला गांव की ओर मार्च करने के दौरान किसान भाजपा की अगुवाई वाली सरकार के खिलाफ काले झंडे लेकर नारेबाजी कर रहे थे। पुलिस ने किसानों को समझा-बुझाकर उन्हें तितर बितर करना चाहा। लेकिन बिगड़ने पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे

कैमला गांव की ओर मार्च करने के दौरान किसान भाजपा की अगुवाई वाली सरकार के खिलाफ काले झंडे लेकर नारेबाजी कर रहे थे। किसानों को कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने से रोकने के लिए पुलिस ने गांव के प्रवेश बिंदुओं पर बैरिकेड्स लगा दिए।

करनाल में किसानों का बवाल काफी देर चला। पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले दागे और बाद में मनोहर लाल खट्टर का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया।

मुख्यमत्री खट्टर की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों और स्थानीय पुलिस ने किसानों को समझा-बुझाकर उन्हें तितर बितर करना चाहा। लेकिन किसान नहीं माने। यहां पर स्थिति बिगड़ने पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया और आंसू के गोले दागे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों पर पानी की बौछारें छोड़ी है।

इस घटना की वे वीडियो में सैकड़ों किसान खेतों में भागते हुए दिख रहे हैं। पुलिस इन किसानों पर लाठियां बरसा रही है। कई किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं। किसानों को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारें छोड़ी। घटना के बाद किसान फिलहाल आस-पास के गांवों में चले गए हैं. यहां पर अब बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

इस बीच करनाल मुख्यमंत्री सीएम के के लिए बनाए गए स्टेज पर किसानों ने की तोड़फोड़ की है. प्रदर्शनकारी किसानों ने कुर्सियां टेबल तोड़ डाली है। मुख्यमंत्री के हेलीपैड पर भी किसान इकट्ठा हो गए हैं। अभी तक मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर यहां लैंड नहीं कर पाया है।

हरियाणा के करनाल में पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों पर लाठी चार्ज किया है। करनाल जिले के कैमला गांव में बीजेपी ने किसान संवाद कार्यक्रम आयोजित किया था। यहां पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर किसानों के बातचीत करने वाले थे और उन्हें नए कृषि कानूनों का फायदा समझाने वाले थे। लेकिन तभी वहां पर कृषि कानूनों का विरोध कर रहे सैकड़ों किसान पहुंच गए। इस किसानों ने मुख्यमंत्री को काले झंड़े दिखाए और नारेबाजी।

मुख्यमत्री की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों और स्थानीय पुलिस ने किसानों को समझा-बुझाकर उन्हें तितर बितर करना चाहा। लेकिन किसान नहीं माने। यहां पर स्थिति बिगड़ने पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया और आंसू के गोले दागे हैं।

Karnal: Protesting farmers gather in Kaimla village where Haryana CM Manohar Lal Khattar will hold Kisan Mahapanchayat shortly

इस घटना पर कांग्रेस ने सीएम खट्टर पर हमला किया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि खट्टर सरकार किसान महापंचायत का ढोंग बंद करें। सुरेजेवाला ने ट्वीट किया, "मा. मनोहर लाल जी, करनाल के कैमला गांव में किसान महापंचायत का ढोंग बंद कीजिए। अन्नदाताओं की संवेदनाओं एवं भावनाओं से खिलवाड़ करके कानून व्यवस्था बिगाड़ने की साजिश बंद करिए। संवाद ही करना है तो पिछले 46 दिनों से सीमाओं पर धरना दे रहे अन्नदाता से कीजिए।"

समाचार के मुताबिक, हरियाणा पुलिस ने रविवार को हरियाणा के करनाल जिले के कैमला गांव की ओर किसानों को प्रदर्शन से रोकने के लिए वाटर कैनन और आंसूगैस के गोले का इस्तेमाल किया, जहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एक 'किसान महापंचायत' को संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री के दौरे के लिए पुलिस ने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए हैं, जहां वह किसानों से कृषि कानूनों के फायदे के ऊपर बात करेंगे।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news