Yogi and Priyanka
Yogi and Priyanka
ताज़ातरीन

बसों पर रार, लेटर वार… योगी सरकार ने कहा- लखनऊ भेजें बसें, प्रियंका बोलीं- मजदूर तो गाजियाबाद में

प्रियंका गांधी की तरफ से 1000 बस की बात पर गृह सचिव की ओर से एक और लेटर जारी हुआ, जिसमें लखनऊ के वृंदावन योजना इलाके में सुबह 10 बजे तक 1000 बसों सहित उनके फिटनेस सर्टिफिकेट व ड्राइवर के लाइसेंस के साथ लखनऊ के डीएम को सौंपने के लिए कहा गया है.

Yoyocial News

Yoyocial News

यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की जहां-तहां फंसे प्रवासी मजदूरों को वापस लाने के लिए 1000 बसें भेजने की मांग सोमवार को स्वीकार कर ली. हालांकि, अब 1000 बसें भेजने के सवाल पर उत्तर प्रदेश प्रशासन और प्रियंका गांधी के बीच लेटर वॉर शुरू हो चुका है. यूपी प्रशासन ने बसे लखनऊ भेजने को कहा है.

प्रियंका गांधी की तरफ से 1000 बस उपलब्ध कराए जाने की सूचना गृह सचिव अवनीश अवस्थी को दिए जाने के बाद गृह सचिव की तरफ से एक और लेटर जारी किया गया है. जिसमें लखनऊ के वृंदावन योजना इलाके में सुबह 10 बजे तक 1000 बसों सहित उनके फिटनेस सर्टिफिकेट और ड्राइवर के लाइसेंस के साथ लखनऊ के डीएम को सौंपने के लिए कहा गया है.

साथ ही डीएम को प्रियंका गांधी की तरफ से भेजे जाने वाली बसों को लेने के लिए नोडल अधिकारी भी बनाया गया है. यह खत प्रमुख सचिव गृह की तरफ से प्रियंका गांधी के सचिव को सम्बोधित है. अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से भेजे गए पत्र का प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह ने जवाब भी दे दिया है.

पत्र का दिया जवाब

प्रियंका गांधी के निजी सचिव की ओर से भेजे गए पत्र में कहा गया है की यूपी सरकार ने सभी बसों को दस बजे लखनऊ पहुंचने के लिए बोला था. जवाब में कहा गया है कि खाली बसों को लखनऊ बुलाना राजनीति से प्रेरित है. यह संसाधनों की बर्बादी है, जबकि हजारों लोग नोएडा-गाजियाबाद में फंसे हैं.

पत्र में कहा गया, 'ऐसी स्थिति में जब हजारों मजदूर सड़कों पर पैदल चल रहे हैं और उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर हजारों की भीड़ पंजीकरण केंद्रों पर उमड़ी हुई है, तब 1000 खाली बसों को लखनऊ भेजना न सिर्फ समय और संशाधनों की बर्बादी है बल्कि हद दर्ज की अमानवीयता है और यह एक घोर गरीब विरोधी मानसिकता की उपज है.'

पत्र में कहा गया, 'आपकी सरकार की यह मांग पूरी तरह से राजनीति से प्ररित लगती है. ऐसा लगता नहीं है कि आपकी सरकार विपदा के मारे हमारे उत्तर प्रदेश के श्रमिक भाई-बहनों की मदद करना चाहती है. हम अपनी बात पर अडिग हैं और संकट में फंसे प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.'

प्रियंका ने जताया आभार

इससे पहले योगी सरकार द्वारा मजदूरों के लिए एक हजार बसें भेजने की मांग को स्वीकार कर लेने पर प्रियंका गांधी ने सीएम योगी आदित्यनाथ का आभार जताय. प्रियंका ने कहा कि महामारी के समय इंसान की जिंदगी को बचाना, गरीबों की रक्षा करना, उनकी गरिमा की हिफाजत करना हमारा नैतिक दायित्व और अधिकार है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस कठिन समय में अपनी पूरी क्षमता और सेवाव्रत के साथ अपने कर्तव्यों का पालन कर रही है. ये बसें हमारी सेवा का विस्तार हैं. यूपी में पैदल चलते हुए हजारों भाई-बहनों की मदद करने के लिए कांग्रेस के खर्चे पर 1000 बसों को चलवाने की इजाजत देने के लिए धन्यवाद.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news